कर्नाटक: कांग्रेस-JDS के सभी 32 मंत्रियों का इस्‍तीफा, CM कुमारस्‍वामी बोले- सरकार आराम से चलेगी

कांग्रेस के संकटमोचक कह जाने वाले डीके शिवकुमार का कहना है कि जल्द ही मामला शांत हो जाएगा.

बेंगलुरू: कर्नाटक में सियासी संकट गहरा गया है. कांग्रेस-JDS गठबंधन की सरकार चला रहे एचडी कुमारस्‍वामी के मंत्रिमंडल से कांग्रेस बाहर हो गई है. कांग्रेस विधायक दल के नेता सिद्धारमैया ने कहा कि कांग्रेस के सभी 21 मंत्रियों ने इस्‍तीफा दे दिया है. इस बीच कुमारस्‍वामी ने कहा है कि ‘मसला सुलझ जाएगा. सरकार आराम से चलेगी.’ मुख्‍यमंत्री कार्यालय की ओर से कहा गया है कि सभी JD(S) मंत्रियों ने कांग्रेस के 21 मंत्रियों की तरह इस्‍तीफा दे दिया है. जल्‍द ही कैबिनेट का पुर्नगठन किया जाएगा.

सोमवार सुबह ही मंत्री और निर्दलीय विधायक नागेश ने अपने पद से इस्‍तीफा दिया था. राज्‍यपाल को इस्‍तीफे में नागेश ने लिखा कि उन्‍होंने एचडी कुमारस्‍वामी की सरकार से समर्थन वापस ले लिया है. नागेश ने लिखा है कि अगर राज्‍यपाल बीजेपी को सरकार बनाने के लिए बुलाएंगे तो वह उसे समर्थन देंगे.

कर्नाटक का सियासी संकट Updates

  • कांग्रेस-जेडीएस कार्यकर्ता घोड़ों पर सवार होकर बीजेपी के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं.
  • जेडीएस के नेताओं को कूर्ग के रिसॉर्ट में जाने के लिए बस आ गई है. ये बस एक सरकारी गेस्ट हाउस पर बुलाई गई है. जेडीएस के सभी नेता इसी बस में बैठकर जाएंगे.
  • सोमवार सुबह कर्नाटक के उपमुख्यमंत्री जी परमेश्वर ने सभी कांग्रेस विधायकों को ब्रेकफास्ट मीटिंग पर बुलाया था. बैठक समाप्त होने के बाद मीडिया से बात करते हुए जी परमेश्वर ने कहा, “मैंने अपने सभी विधायकों को वर्तमान परिस्थिति पर बातचीत के लिए बुलाया था. हमें पता है कि बीजेपी हमें तोड़ने की कोशिश कर रही है. अगर जरूरत पड़ी तो हम सभी लोग इस्‍तीफा दे देंगे और सभी विधायकों को साथ लाएंगे.”
  • रविवार शाम मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी स्वदेश वापस लौटे और उपमुख्यमंत्री परमेश्वर से ताज वेस्ट एंड होटल में मुलाक़ात की. उन्होंने मुख्यमंत्री को पूरे घटनाक्रम की जानकारी दी. जिसके बाद सीएम ने कांग्रेस के विधायकों के साथ भी मुलाक़ात की. हालांकि इस मुलाक़ात के बाद भी बात बनती नहीं दिखआई दे रही है. सूत्र बताते हैं कि जेडीएस को अपने तीनों बाग़ी विधायकों के वापस आने के आसार नहीं दिखते.
  • कर्नाटक कांग्रेस ने पार्टी के नौ बागी विधायकों के शनिवार के इस्तीफे के बाद इस संकट से निपटने के लिए नौ जुलाई को अपने सभी 78 विधायकों की बैठक बुलाई है. इससे पहले कांग्रेस के विधायक आनंद सिंह (विजयनगर) ने एक जुलाई को इस्तीफा दे दिया था, जिसे मिलाकर बागी विधायकों की संख्या 10 हो गई है.
  • कांग्रेस प्रवक्ता रवि गौड़ा ने कहा, “कांग्रेस विधायक दल (सीएलपी) के नेता सिद्धारमैया ने सभी विधायकों को निर्देश दिया है कि वे मंगलवार (नौ जुलाई) को सुबह 9.30 बजे विधानसभा भवन के कॉन्फ्रेंस हॉल में सभी मुद्दों पर चर्चा करें, जिसमें शनिवार को इस्तीफा देने वालों की चिंताएं भी शामिल हैं.”
  • सीएलपी बैठक आयोजित करने का निर्णय पार्टी की राज्य इकाई के नेताओं की बैठक में लिया गया, जिसमें सिद्धारमैया, उपमुख्यमंत्री जी. परमेस्वरा, पार्टी की राज्य इकाई के कार्यकारी अध्यक्ष ईशर कंद्रे और पार्टी के कर्नाटक प्रभारी के.सी. वेणुगोपाल शामिल रहे. गौड़ा ने कहा, “पार्टी की राज्य इकाई के अध्यक्ष दिनेश गुंडू राव और मल्लिकार्जुन खड़गे जैसे वरिष्ठ पार्टी नेता भी बैठक में भाग लेंगे।”
  • विधानसभा अध्यक्ष के.आर. रमेश कुमार मंगलवार को ही विधायकों के त्याग-पत्रों पर गौर करेंगे. विधायकों ने कुमार की अनुपस्थिति में अपने इस्तीफे उनके निजी सचिव को सौंप दिए थे. इनमें नौ कांग्रेस और तीन जनता दल (सेक्युलर) के विधायकों के इस्तीफे हैं.
  • पार्टी के एक सूत्र ने बताया, “चूंकि विद्रोही विधायक शनिवार को व्यक्तिगत रूप से इस्तीफा देने के लिए कुमार से मुलाकात नहीं कर पाए थे, इसलिए उन्होंने अपने त्याग-पत्रों में उल्लिखित कारणों को स्वीकार करने पर जोर देने के लिए उनसे मंगलवार को मिलने का समय मांगा है.”

डीके शिवकुमार का मानना, जल्द थमेगा विवाद

कर्नाटक में जारी सियासी संकट कब तक ख़त्म होगा, इस बारे में ठीक-ठीक कुछ भी अंदाज़ा लगाना बेईमानी होगी. लेकिन कांग्रेस के संकटमोचक कह जाने वाले डीके शिवकुमार का कहना है कि जल्द ही मामला शांत हो जाएगा.

जेडीएस प्रमुख एचडी देवगौड़ा से उनके आवास पर मुलाक़ात करने के बाद उन्होंने यह बात कही. इस बैठक में जेडीएस नेता एचडी रेवाना, डी कुपेंद्र रेड्डी, एचके कुमारस्वामी और डीसी थमन्ना भी मौजूद हैं.

मुलाक़ात के बाद मीडिया से बात करते हुए उन्होंने कहा, “जेडीएस ने अपने सभी विधायकों की बैठक बुलाई है हम भी अपने सभी विधायकों के साथ मीटिंग कर इस मसले को सुलझाने जा रहे हैं. मुझे पूरा विश्वास है कि मामला जल्द ही शांत हो जाएगा. सरकार को सामान्य तरीके से चलने देना का फ़ैसला देशहित और पार्टी हित का होगा. मुझे पूरा भरोसा है हमारे सभी विधायक वापस आ जाएंगे…”

कांग्रेस नेता सिद्धारमैया ने सब ठीक होने का दिया भरोसा

वहीं कांग्रेस नेता सिद्धारमैया ने पार्टी के बाग़ी विधायकों को लेकर कहा, ‘मैं 5-6 विधायकों के संपर्क में हूं. मैं सभी बातों का खुलासा नहीं कर सकता. सभी लोग पार्टी के प्रति निष्ठावान हैं. सवाल मेरे प्रति वफादारी दिखाने का नहीं है सभी सदस्यों से पार्टी के प्रति वफ़ादार होने की उम्मीद की जाती है.’

सिद्धारमैया ने विश्वास जताते हुए कहा कि सरकार को कोई खतरा नहीं है. इस पूरे घटनाक्रम के पीछे बीजेपी है.  ‘ऑपरेशन लोटस’ की वजह से ऐसी स्थिति उतपन्न हुई है. सिद्धरमैया ने कहा कि सबकुछ ठीक है, मैं विधायकों से बात कर रहा हूं.’

मल्लिकार्जुन खड़गे हो सकते हैं अगले सीएम?

इसी बीच जानकारी ये भी मिल रही है कि मल्लिकार्जुन खड़गे को राज्य का अगला सीएम बनाया जा सकता है. हालांकि यह ख़बर पूरी तरह से मीडिया रिपोर्ट्स पर आधारित है क्योंकि स्वयं खड़गे ने इसे अफ़वाह करार दिया है.

खड़गे ने इस ख़बर को अफ़वाह बताते हुए कहा, ‘मुझे नहीं पता, मैं बस इतना चाहता हूं कि राज्य की गठबंधन सरकार चलती रहे. इस तरह की अफ़वाह पार्टी तोड़ने के लिए फैलाई जा रही है.’