PAK की नापाक हरकत, अपनों से मिलने भारत आए PoK नागरिकों के लिए नहीं खोला गेट

पीओके के 27 नागरिक जम्मू-कश्मीर से वापस अपने घर लौट रहे थे, लेकिन पाकिस्तान द्वारा एलओसी पर राहें मिलन गेट न खोलने के कारण उन्हें वापस भारत का रुख करना पड़ा.

जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाए जाने के बाद से पाकिस्तान की बौखलाहट है कि कम होने का नाम नहीं ले रही है. पाक ने अपनी ताजा नापाक हरकत जम्मू-कश्मीर और पीओके के पीच पुंछ जिले से चलने वाली पुंछ-रावलकोट बस सेवा के लिए एलओसी पर चक्कां-दा-बाग की राहें मिलन पर बने गेट को न खोलकर दिखाई है.

यह घटना सोमवार की है, जब पीओके के 27 नागरिक जम्मू-कश्मीर से वापस अपने घर लौट रहे थे, लेकिन पाकिस्तान द्वारा एलओसी पर राहें मिलन गेट न खोलने के कारण उन्हें वापस भारत का रुख करना पड़ा.

इन पीओके नागरिकों में शामिल 73 वर्षिय फतेह मोहम्मद जो कि पाकिस्तान के एबटाबाद  में रहते हैं. वे बरसों बाद सुरनकोट में अपने रिश्तेदारों से मिलने के लिए आए थे. फतेह मोहम्मद का कहना है कि हिन्दुस्तान में हमें बड़ा प्यार और अपनापन मिला है, लेकिन पाकिस्तानी हुकुमत ने राहें मिलन के गेट न खोल कर बहुत गलत काम किया है.

फतेह मोहम्मद ने कहा, “हम अपने वतन लौटना चाहते थे. हमारा यहां एक महीने का समय पूरा हो चुका है. वहां हमारे बच्चे परेशान हैं और यहां मैं परेशान हूं. मैं बीमार हूं, इसलिए इमरान खान से हमारी इलतजा है कि गेट खोलें और हमें अपने वतन आने दें.”

अपने वतन वापस न लौट पाने का दुख अन्य पीओके नागरिकों को भी है और वे पाकिस्तान के प्रधानमंत्री ने विन्नती कर रहे हैं कि वे राहें मिलन के गेट खोल दें ताकि वे अपने परिवार के पास वापस आ सकें.

 

ये भी पढ़ें-  चिदंबरम के विदेश भागने का है डर, ED ने जारी किया लुकआउट नोटिस

‘नाबालिग हैं रामलला, अगर संपत्ति खुद में देवता है तो भूमि के मालिकाना हक का दावा कोई नहीं कर सकता’