दिल्ली चिड़ियाघर में इकलौते ‘अफ्रीकी भैंसे’ की प्लास्टिक थैली खाने से मौत

अफ्रीका के जंगलों में पाए जाने वाले ये भैंसे इतने खतरनाक होते हैं कि शेरों को मार डालते हैं.

एक हफ्ते पहले दिल्ली चिड़ियाघर में एक मात्र बचे अफ्रीका के जंगली ‘केप भैंसे’ की मौत हो गई थी. अब खबर आ रही है कि उस भैंसे की मौत प्लास्टिक बैग खाने की वजह से हुई थी, जिसे कोई पर्यटक छोड़ गया था. ये विशेष प्रकार का भैंसा सिर्फ अफ्रीका के जंगलों में पाया जाता है.

चिड़ियाघर के एक सीनियर अफसर ने बताया ‘पोस्टमार्टम के समय उसके पेट में प्लास्टिक बैग मिला था. प्लास्टिक बैग उड़कर भैंसे के पास पहुंच गया होगा. वहां आने वाले अक्सर प्लास्टिक बैग लाते हैं और चिड़ियाघर के अंदर ही छोड़ देते हैं.’

चिड़ियाघर के अधिकारी अभिजीत भावल के द्वारा चिड़ियाघर निदेशक रेनू सिंह को लिखी एक चिट्ठी हिंदुस्तान टाइम्स के हाथ लगी. एक सितंबर की इस चिट्ठी में लिखा था ‘केप भैंसे के पेट में मिला प्लास्टिक कई सवाल उठाता है. इसलिए मैं गुजारिश करता हूं कि मामले को गंभीरता से लिया जाए.’

अभिजीत भावल और रेनू सिंह ने इस मामले पर बात करने से मना कर दिया. एक और अधिकारी आरए खान ने भैंसे की मौत को स्वीकार किया लेकिन उसकी वजह के बारे में कुछ नहीं बताया. उनका कहना था कि वजह पोस्टमार्टम रिपोर्ट में होगी जो कि निदेशक के पास रहती है.

lone cape buffalo, दिल्ली चिड़ियाघर में इकलौते ‘अफ्रीकी भैंसे’ की प्लास्टिक थैली खाने से मौत

बता दें कि दिल्ली चिड़ियाघर में 2 केप भैंसे थे जिनमें से एक की मौत फरवरी 2017 में हो गई थी. अफ्रीका के सवाना में पाई जाने वाली जंगली भैंसों की ये प्रजाति बहुत खतरनाक होती है. इन्हें शेरों को मारने के लिए जाना जाता है. इंसानों पर हमला करने की इनकी प्रवृत्ति की वजह से इन्हें ‘ब्लैक डेथ’ भी कहा जाता है.