लव जिहाद में फंसकर सेक्‍स स्‍लेव बन रही हैं लड़कियां, केरल के चर्च का बयान

चर्च ने एक बयान में आरोप लगाया कि केरल में 'सोची-समझी रणनीति के तहत लव जिहाद के लिए ईसाई लड़कियों को निशाना बनाया जा रहा है.'

केरल के एक चर्च ने कहा है कि ईसाई लड़कियां ‘लव जिहाद’ का शिकार बन रही हैं. सिरो-मालाबार चर्च ने दुनिया भर में ईसाइयों पर हुए हमलों का जिक्र किया. बयान में चर्च ने कहा, “ऐसे कई मामले प्रकाश में आए जहां केरल में लव जिहाद के नाम पर ईसाई लड़कियां मार दी गईं.”

चर्च ने कहा, “लव जिहाद केरल की सामाजिक शांति और सांप्रदायिक सद्भाव के लिए खतरा है, यह चिंता की बात है.” बयान में कहा गया कि केरल में ‘सोची-समझी रणनीति के तहत लव जिहाद के लिए ईसाई लड़कियों को निशाना बनाया जा रहा है.’

यह चिंता मंगलवार रात समाप्त हुए सायनोड (चर्च के बिशपों की बैठक) सम्मेलन में जाहिर की गई, जिसमें पुलिस पर इस मामले से सही से नहीं निपटने का आरोप लगाया गया. बैठक में पाया गया कि अब ईसाई युवतियों को निशाना बनाया जा रहा है और यह सब प्यार के नाम पर शुरू होता है. और जब प्यार हो जाता है तो धर्म परिवर्तन होता है और शादी होती है.

वहीं, पादरियों की एक संस्‍था ने केरल सरकार पर आरोप लगाया है कि वह ऐसे मामलों को गंभीरता से नहीं ले रही. कार्डिनल जॉर्ज ऐलनचैरी की अध्‍यक्षता वाली संस्‍था ने पुलिस रिकॉर्ड का हवाला देते हुए दावा किया कि जिन 21 लोगों को इस्‍लामिक स्‍टेट में भर्ती किया गया, उनमें से आधे कन्‍वर्टेड ईसाई थे.

पादरियों की संस्‍था ने इस्‍लामिक संगठन पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (PFI) पर आरोप लगाए हैं. PFI ने आरोपों को सिरे से खारिज करते हुए कहा केरल हाई कोर्ट में पेश की गई पुलिस की एक रिपोर्ट का हवाला दिया जिसमें कहा गया था कि राज्‍य में लव जिहाद का कोई केस नहीं था.

ये भी पढ़ें

15 राज्‍यों में फैला है PFI का नेटवर्क, जानें कैसे काम करता है ये संगठन

Related Posts