एक भारतीय अरबपति बना UAE की नागरिकता हासिल करने वाला पहला प्रवासी

पद्मश्री विजेता यूसुफ अली केरल के त्रिशूर जिले के नाट्टिका के निवासी हैं. वह लुलु ग्रुप इंटरनैशनल के चेयरमैन और प्रबंध निदेशक हैं.
MA Yusuff Ali, एक भारतीय अरबपति बना UAE की नागरिकता हासिल करने वाला पहला प्रवासी

नई दिल्ली: भारतीय अरबपति एमए यूसुफ संयुक्त अरब अमीरात (UAE) में स्थायी सदस्यता हासिल करने वाले पहले प्रवासी बन गए हैं.

आईसीए (नागरिकता संघीय प्राधिकरण) ने सोमवार को अबुधाबी में उनके नाम का गोल्डन कार्ड जारी किया है. गोल्डन कार्ड के ज़रिए संयुक्त अरब अमीरात विदेशी नागरिकों को स्थाई नागरिकता देता है. इस कार्ड के ज़रिए UAE देश में निवेशकों, उद्यमियों और निर्धारित मानदंड पूरे करने वाले शिक्षित व्यक्तियों को आकर्षित करने की कोशिश कर रहा है.

बता दें कि यह स्कीम पिछले महीने ही शुरू किया गया है. पहले बैच में सौ बिलियन दिरहम से ज्‍़यादा का निवेश करने वाले छह हज़ार आठ सौ निवेशकों को गोल्‍डन कार्ड दिया जाएगा. इस योजना के तहत असाधारण वैज्ञानिकों, इंजीनियरों तथा डॉक्‍टरों को भी शामिल किया गया है.

फोर्ब्स द्वारा हाल में जारी दुनिया के रईस लोगों की सूची में संयुक्त अरब अमीरात में रहने वाले पांच प्रवासी भारतीयों को भी जगह मिली है. इन पांचों रईसों में से केरल के एमए यूसुफ भी हैं. जाने-माने रिटेल व्यवसायी एम. ए. युसूफ अली लगभग 4.7 अरब डॉलर की संपत्ति के साथ यूएई के सबसे अमीर एनआरआई हैं और सूची में 394वें स्थान पर हैं.

पद्मश्री विजेता यूसुफ अली केरल के त्रिशूर जिले के नाट्टिका के निवासी हैं. वह लुलु ग्रुप इंटरनैशनल के चेयरमैन और प्रबंध निदेशक हैं, जो दुनियाभर में लुलु हाइपरमार्केट चेन और लुलु इंटरनैशनल शॉपिंग मॉल का मालिक है.

साल 2018 के अगस्त महीने में जब केरल में बाढ़ आई थी तो युसूफ अली ने प्रभावित क्षेत्रों के हवाई सर्वेक्षण का आयोजन किया और बारिश प्रभावित केरल की मदद के लिए 9.23 मिलियन संयुक्त अरब अमीरात दिरहम दान किए थे.

युसूफ अली ने 1973 में केरल में अबू धाबी में एक रिश्तेदार के व्यापार में मदद के लिए अपना घर छोड़ दिया था.

और पढ़ें- सलमान खान की ‘भारत’ ने सऊदी अरब में बनाया…

Related Posts