महाराष्‍ट्र: 2014 में किसके खाते में थीं कितनी सीटें और क्‍या थे इक्‍वेशन, 10 प्‍वॉइंट्स में

शिवसेना और बीजेपी के बीच इस बार भी गठबंधन पर कोई सहमति अब तक नहीं बन सकी है. NCP ऐलान कर चुकी है कि वह और कांग्रेस 125-125 सीटें पर लड़ेंगे.

Maharashtra Assembly Elections 2019: भारत निर्वाचन आयोग (Election Commission of India) ने महाराष्‍ट्र में विधानसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान कर दिया है. घोषित कार्यक्रम के अनुसार, 21 अक्टूबर को विधानसभा चुनाव 2019 के लिए मतदान होगा. 24 अक्टूबर को मतगणना होगी.

चुनाव की तारीखों की घोषणा के साथ ही महाराष्‍ट्र में दो प्रदेशों में आदर्श आचार संहिता प्रभावी हो गई है. आइए समझते हैं कि महाराष्‍ट्र के राजनीतिक हालात कैसे हैं.

  1. महाराष्‍ट्र में इस समय भाजपा-शिवसेना गठबंधन की सरकार है और देवेंद्र फडणवीस मुख्‍यमंत्री हैं.
  2. महाराष्‍ट्र में 288 सीटों की विधानसभा है.
  3. पिछली बार 20 सितंबर को तारीखों के ऐलान के बाद, 15 अक्‍टूबर को वोटिंग हुई और 19 अक्‍टूबर को नतीजे आए.
  4. महाराष्‍ट्र में पिछले चुनाव कई मायनों में अनूठे थे. 25 साल बाद बीजेपी और शिवसेना गठबंधन टूटा था और दोनों पार्टियां अलग-अलग चुनाव लड़ी थीं.
  5. बीजेपी ने 122 सीटें जीतीं तो शिवसेना को 63 सीटें मिलीं. कांग्रेस और NCP भी अलग-अलग चुनाव लड़े पर जनता का समर्थन हासिल नहीं कर पाए.
  6. शिवसेना और बीजेपी के बीच इस बार भी गठबंधन पर कोई सहमति अब तक नहीं बन सकी है. शिवसेना ने कह दिया है कि अगर गठबंधन में उसे 144 से कम सीटें मिलीं तो वह दोबारा अपने दम पर चुनाव लड़ेगी.
  7. NCP इस बार ऐलान कर चुकी है कि वह और कांग्रेस 125-125 सीटें पर लड़ेंगे. बाकी 38 सीटें सहयोगी पार्टियों के लिए छोड़ी गई हैं.
  8. महाराष्‍ट्र की कहानी अनूठी है. 2014 का विधानसभा चुनाव अलग-अलग लड़ने वाली भाजपा और शिवसेना 2019 के लोकसभा चुनाव में साथ आ गईं.
  9. इसका फायदा भी देखने को मिला और वोट शेयर में 3 फीसदी का उछाल आया.
  10. कांग्रेस और NCP का वोट शेयर 2014 के मुकाबले 2019 लोकसभा चुनाव में घटा.

ये भी पढ़ें-

LIVE: CEC सुनील अरोड़ा का ऐलान- महाराष्‍ट्र, हरियाणा में 21 अक्‍टूबर को वोटिंग, 24 को रिजल्‍ट

हरियाणा: पांच साल पहले क्‍या थी राजनीतिक पार्टियों की हैसियत, 10 प्‍वॉइंट्स में