महाराष्ट्र में शिवसेना देखती रही और बीजेपी की सरकार बन गई, जानिए रातों रात क्या बदल गया?

शुक्रवार को एनसीपी, कांग्रेस और शिवसेना की दो घंटे तक बैठक हुई, जिसमें महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री के तौर पर उद्धव ठाकरे के नाम पर सहमति बनी थी.
Maharashtra government formation, महाराष्ट्र में शिवसेना देखती रही और बीजेपी की सरकार बन गई, जानिए रातों रात क्या बदल गया?

महाराष्ट्र में चुनाव के नतीजे आए लगभग एक महीना हो गया था, वहीं पिछले दस दिनों से राज्य में राष्ट्रपति शासन लागू है. इसके बावजूद सरकार बनाने को लेकर रास्ता साफ नहीं हो पा रहा था. शिवसेना बार-बार कह रही थी महाराष्ट्र में इस बार शिवसैनिक मुख्यमंत्री होगा. लेकिन रातों-रात राजनीति ही बदल गई

लगभग पिछले 15 दिनों से शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी (राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी) के साथ मिलकर सरकार बनाने में जुटी रही लेकिन किसी नतीजे तक नहीं पहुंचा जा सका.

शनिवार सुबह किसी को अंदाज़ा भी नहीं रहा होगा कि बीजेपी सरकार बना ले जाएगी. ताज्जुब की बात यह है कि एनसीपी अब तक शिवसेना और कांग्रेस के बीच पुल बनी हुई थी. लेकिन उसने ही अचानक से पाला बदल लिया और बीजेपी के साथ मिलकर सरकार बना ली.

सवाल यह उठता है कि आख़िर शुक्रवार की रात ऐसा क्या हुआ कि एनसीपी ने बीजेपी के साथ जाने का मन बना लिया या फिर कहीं ऐसा तो नहीं एनसीपी चुपके-चुपके अपना काम कर रही थी. साथ ही अन्य दलों को उलझाए रखने के लिए एक अलग प्रायोजित कार्यक्रम चला रही थी.

मुख्यमंत्री के तौर पर शपथ लेने के बाद देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि जनता ने हमें स्पष्ट जनादेश दिया था, शिवसेना ने जनादेश का अपमान किया है. महाराष्ट्र की जनता को स्थिर और स्थाई सरकार चाहिए, खिचड़ी सरकार नहीं चाहिए. सीएम फडणवीस ने कहा कि महाराष्ट्र के उज्जवल भविष्य के लिए एनसीपी के साथ मिलकर काम करेंगे.

इससे पहले शुक्रवार को एनसीपी, कांग्रेस और शिवसेना की दो घंटे तक बैठक हुई, जिसमें महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री के तौर पर उद्धव ठाकरे के नाम पर सहमति बनी थी. इस बैठक के बाद एनसीपी चीफ शरद पवार ने कहा था कि शीर्ष पद के लिए ठाकरे के नाम पर सहमति बनी है. महाराष्ट्र की नई सरकार का नेतृत्व उद्धव ठाकरे करेंगे.

राकांपा प्रमुख ने कहा, ‘नेतृत्व का मुद्दा अब लंबित नहीं है. मुख्यमंत्री पद के लिए दो तरह की कोई राय नहीं थी. इस बात पर सहमति बनी है कि उद्धव ठाकरे नई सरकार का नेतृत्व करें.’

सवाल किया गया कि उद्धव ठाकरे मुख्यमंत्री होंगे, तो पवार ने जवाब दिया, ‘आप हिन्दी नहीं समझते हैं? नई सरकार का नेतृत्व उद्धव ठाकरे करेंगे.’

महाराष्ट्र विधानसभा की 288 सीटों के लिए 21 अक्टूबर को चुनाव हुए थे और नतीजे 24 अक्टूबर को आए थे. राज्य में किसी पार्टी या गठबंधन के सरकार बनाने का दावा पेश नहीं करने की वजह से राज्य में 12 नवंबर को राष्ट्रपति शासन लगा दिया गया था.

शिवसेना के मुख्यमंत्री पद की मांग को लेकर बीजेपी से 30 साल पुराना गठबंधन तोड़ने के बाद से राज्य में राजनीतिक संकट है.

राज्य में बीजेपी और शिवसेना ने मिलकर विधानसभा चुनाव लड़ा था, और गठबंधन को बहुमत मिला था जिसमें बीजेपी को 105 और शिवसेना को 56 सीटें आई थीं. राकांपा और कांग्रेस ने गठबंधन में चुनाव लड़ा था और उन्हें क्रमश: 54 और 44 सीटें मिली हैं.

शिवसेना, राकांपा और कांग्रेस की सीटें 154 होती हैं जो बहुमत के 145 की संख्या ज्यादा है.

Related Posts