महाराष्ट्र सरकार को लेकर मीटिंग का दौर, शिवसेना-बीजेपी ने भी नहीं छोड़ी उम्मीदें, पढ़िए 10 अपडेट

एनसीपी, कांग्रेस और शिवसेना के दो-दो नेताओं की मुलाकात मुंबई में किसी गुप्त जगह पर हो रही है. ये पहला मौका है जब एनसीपी, कांग्रेस और शिवसेना के नेता एक साथ मिलेंगे.

Maharashtra Government News: महाराष्‍ट्र में सरकार गठन (Maharashtra Government Formation) की कोशिशें जारी हैं. कांग्रेस और एनसीपी ने कॉमन मिनिमम प्रोग्राम (CMP) तय करने को कमेटी बना दी है. इन कमेटियों से ही शिवसेना (Shiv Sena) के साथ गठबंधन का रास्‍ता निकलेगा. दूसरी तरफ, बीजेपी ने भी उम्‍मीद नहीं छोड़ी है. उद्धव ठाकरे भी प्रेस कांफ्रेंस में कह चुके हैं कि विकल्प खत्म नहीं हुए हैं.

शिवसेना सांसद संजय राउत (Sanjay Raut) ने उद्धव और अहमद पटेल(Ahmad Patel) के बीच मुलाकात की खबरों का खंडन किया है. वहीं, बीजेपी अध्‍यक्ष अमित शाह(Amit Shah) ने कहा कि अब ‘शिवसेना नई मांगों के साथ आ रही है जो कि अस्वीकार्य हैं.’ महाराष्ट्र में किसी पार्टी के सरकार बनाने का दावा पेश न करने पर राष्ट्रपति शासन लगा दिया गया है.

1- एनसीपी, कांग्रेस और शिवसेना के दो-दो नेताओं की मुलाकात मुंबई में किसी गुप्त जगह पर हो रही है. ये पहला मौका है जब एनसीपी, कांग्रेस और शिवसेना के नेता एक साथ मिलेंगे. एनसीपी के नवाब मलिक ने टीवी9 भारतवर्ष से कहा, हमारी बातचीत चल रही है. उन्‍होंने कहा, “मुख्यमंत्री अगर बना तो शिवसेना का ही होगा. उद्धव ठाकरे मुख्यमंत्री पद के लिए सही है. कॉमन मिनिमम प्रोग्राम पर बात हो रही है.”

2- संजय राउत ने कहा, “अमित शाह गृहमंत्री हैं. उनका आदर किया है, करते रहेंगे. बातें सामने लाने की कोशिश है. दूसरा पक्ष सामने लाने के लिए मैं यहां हूं. बंद कमरे की बात अमित शाह सामने लाए, इसलिए हम बात करे रहे. उस वक्त अमित भाई के पास पूरा अधिकर था. जिस नाते अमित भाई ने उद्धव से बात की उस हिसाब से तय किया, अब बात नहीं मान रहे. अब हमें रास्ते पर छोड़ दीजिए. हमे डराने की कोशिश न करें. हम मरेंगे… मिटेंगे पर डरेंगे नहीं.“

3- संजय राउत कह रहे हैं, “शिवसेना ने बालासाहेब पर श्रद्धा रखी. बंद कमरा बाला साहब का था, जहां से वे नरेंद्र मोदी को आशीर्वाद देते रहे. उसी कमरे में अमित शाह और उद्धव के बीच चर्चा हुई जहां बाला साहब बैठते थे. ये बाते मंदिर में हुई हैं. हम बाला साहब की कसम खाकर झूठ नही बोलेंगे.”

4- राउत ने कहा, “अमित (शाह) भाई का कहना है बंद कमरे की बात बाहर नहीं आनी चाहिए. बंद कमरे में बात पर अमल नहीं होता तो बाहर आती है. ये महाराष्ट्र के स्वाभिमान की बात है. प्राण जाएं पर वचन न जाएं.” उन्‍होंने कहा, “शिवसेना ने राजनीति का व्यापार नहीं किया है. शिवाजी का महाराष्ट्र है. महान लोगों ने व्यापार नहीं किया है.”

5- संजय राउत ने प्रेस कॉन्फ्रेंस ने कहा, “हम झूठ नहीं बोल रहे हैं. बालासाहेब ठाकरे की कसम खा के कहता हूं. हम झूठ का सहारा लेकर ऐसी राजनीति नहीं करेंगे.” राउत ने कहा, “मोदी जी कहते थे देवेंद्र मुख्यमंत्री होंगे.

6- उद्धव ठाकरे कहते थे शिवसेना(Shiv Sena) का मुख्यमंत्री होगा. जब उद्धव(Uddhav) कहते थे तो अमित शाह क्यों नहीं कहते थे? लोकसभा में कुछ बोले नहीं, होने दिया. विधानसभा चुनाव के बाद बोला. ये नैतिकता नहीं है.”

7- शिवसेना सांसद संजय राउत ने ट्वीट किया है, “हार हो जाती है जब मान लिया जाता है. जीत तब होती है जब ठान लिया जाता है.”

8- शिवसेना के विधायक मलाड के होटल रिट्रीट में मौजूद हैं. वहीं, NCP और कांग्रेस की CMP कमेटियों के बीच बुधवार रात मीटिंग हुई. इसमें कांग्रेस की तरफ से पूर्व मुख्यमंत्रियों अशोक चव्हाण, पृथ्वीराज चव्हाण, राज्य इकाई के प्रमुख बालासाहेब थोरात, माणिकराव ठाकरे व विजय वडेट्टीवार शामिल हुए. NCP ने जयंत पाटील, अजीत पवार, छगन भुजबल, धनंजय मुंडे और नवाब मलिक को भेजा.

9- भाजपा-शिवसेना ने गठबंधन के तहत 21 अक्टूबर का विधानसभा चुनाव लड़ा था. लेकिन, शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे द्वारा ढाई-ढाई साल के लिए मुख्यमंत्री पद की मांग करने के बाद गठबंधन टूट गया.

10- भाजपा ने शिवसेना के रोटेशनल मुख्यमंत्री पद की मांग को ठुकरा दिया.