यौन उत्‍पीड़न के मामले में असम राइफल के मेजर जनरल बर्खास्‍त, नहीं मिलेगी पेंशन

आर्मी चीफ जनरल बिपिन रावत ने यौन उत्पीड़न के मामले में मेजर जनरल को दी गई सजा की पुष्टि की है.

indian army

नई दिल्ली: असम राइफल्स में कार्यरत एक मेजर जनरल को एक अन्य सेवारत अधिकारी से यौन उत्पीड़न के मामले में बिना पेंशन के बर्खास्त कर दिया गया है. सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने मेजर जनरल आरएस जसवाल के खिलाफ कोर्ट मार्शल की पुष्टि की है. हालांकि, आर्मी चीफ ने जुलाई में ही इस बाबत आदेश दे दिए थे.

सेना के अधिकारियों ने न्यूज एजेंसी ANI को बताया कि, ‘आर्मी चीफ जनरल बिपिन रावत ने यौन उत्पीड़न के मामले में मेजर जनरल को दी गई सजा की पुष्टि की है. सेना प्रमुख के फैसले से लेफ्टिनेंट जनरल एमजेएस कहलोन ने आज अंबाला में मेजर जनरल को अवगत कराया.’


कैप्टन रैंक की महिला अधिकारी ने लगाया था आरोप
बता दें कि आरोपी मेजर जनरल साल 2016 में सेना की पश्चिमी कमान के तहत चंडीमंदिर में तैनात थे, उसी समय उन पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगा था. ANI की रिपोर्ट के मुताबिक, मेजर जनरल ने कैप्टन रैंक की महिला अधिकारी द्वारा उन पर लगाए गए आरोपों से इनकार किया था.

गौरतलब है कि पिछले साल भी भारतीय सेना के एक वरिष्ठ अधिकारी को यौन शोषण का आरोपी पाए जाने के बाद उसका कोर्ट मार्शल कर दिया गया था. यौन शोषण का मामला 2 साल पुराना था, जिस मेजर जनरल का कोर्ट मार्शल किया गया था. आरोपी अफसर को आईपीसी की धारा 354ए और आर्मी एक्ट 45 के तहत दोषी पाया गया था.

ये भी पढ़ें-

महबूबा मुफ्ती की बेटी ने गृहमंत्री अमित शाह को लिखा खत, ‘कश्मीरियों को पशुओं की तरह किया कैद’

छापे में घर से मिली AK-47, अनंत सिंह बोले- जदयू सांसद ललन सिंह के इशारे पर हो रही कार्रवाई

मस्जिद का निर्माण धार्मिक नहीं बल्कि दूसरे धर्म को कुचलने के इरादे से किया गया: रामलला विराजमान

Related Posts