शहीद दिवस पर ममता ने दिखाई ताकत, बैलट पेपर की वापसी पर दिया जोर

ममता बनर्जी ने कोलकाता की रैली में बीजेपी को जमकर घेरा. उसे डकैतों की पार्टी बताया.
mamata, शहीद दिवस पर ममता ने दिखाई ताकत, बैलट पेपर की वापसी पर दिया जोर

कोलकाता: पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री और तृणमूल कांग्रेस की प्रमुख ममता बनर्जी ने कोलकाता रैली में बीजेपी को जमकर घेरा. उनके भाषण में ईवीएम, नोटबंदी और हिंदू- मुसलमान छाये रहे जिसके बहाने वो बीजेपी पर हमलवार रहीं.

ममता बनर्जी ने रैली में बीजेपी पर विधायकों  को 2 करोड़ रुपये और पेट्रोल पंप का ऑफर देने का आरोप लगाया. ममता ने कहा, ‘बीजेपी हमारे विधायकों को 2 करोड़ और पेट्रोल पंप देने का ऑफर दे रही है. बीजेपी ने ऐसा हीकर्नाटक में भी किया. बीजेपी विधायकों की खरीद-फरोख्त कर रही है.’

ममता बनर्जी ने कहा कि 2019 का लोकसभा चुनाव इतिहास नहीं बल्कि रहस्य है. उन्होंने ईवीएम को सवालिया निशानों में घेरते हुए कहा कि लोकसभा चुनाव में ईवीएम, सीआरपीएफ और चुनाव का इस्‍तेमाल करके बीजेपी ने चुनाव जीता. उन्‍हें केवल 18 सीटें मिली हैं. कुछ सीटें पाकर वे हमारी पार्टी के कार्यालयों पर कब्‍जा कर रहे हैं और हमारे लोगों को पीट रहे हैं. मैं चुनाव आयोग से अनुरोध करती हूं कि पंचायत और नगर निगम के चुनाव बैलट पेपर से कराए जाएं.

उन्होंने कहा कियह मत भूलिए कि पहले इंग्‍लैंड, फ्रांस, जर्मनी और अमेरिका में भी ईवीएम का इस्तेमाल किया गया. लेकिन अब उन्होंने उसका इस्तेमाल करना बंद कर दिया है तो ऐसे में हम क्यों मतपत्र वापस नहीं ला सकते?’ 

mamata, शहीद दिवस पर ममता ने दिखाई ताकत, बैलट पेपर की वापसी पर दिया जोर

ममता बनर्जी ने कालेधन के मुद्दे पर भी कहा कि यदि कालेधन के इस्तेमाल को रोकना चाहते हैं और राजनीतिक दलों में पारदर्शिता कायम करना चाहते हैं तो चुनाव सुधार करने ही होंगे. उन्होंने कहा कि चुनाव की सरकारी फंडिंग जरूरी है क्योंकि राजनीतिक दल चुनाव के दौरान कालेधन का इस्तेमाल करते हैं.

टीएमसी के मुताबिक रैली में करीब 7 लाख लोग हिस्सा ले रहे हैं. रैली की सुरक्षा में 5 हजार पुलिसकर्मी सुरक्षा के लिए लगाए गए. 21 जुलाई 1993 को वामदलों के शासन के दौरान कोलकाता के मेयो रोड पर पुलिस गोलीबारी में मारे गए 13 लोगों को श्रद्धांजलि देने के लिए रैली आयोजित की गई थी.

Related Posts