अब FASTag के नाम पर भी होने लगी ठगी, जालसाजों ने शख्स को लगाया 50,000 का चूना

हाल ही में जालसाजों ने बेंगलुरू के एक शख्स को निशाना बनाया. जालसाजों ने व्यक्ति को 50,000 रुपए का चूना लगा दिया.

देश में एक तरफ FASTag लॉन्‍च हुआ. वहीं दूसरी तरफ जालसाजों को FASTag के नाम पर ठगी करने का नया तरीका मिल गया है. FASTag लगाने के नाम पर नकली चिप लगाई जा रही हैं. FASTag की चेकिंग के बहाने लोगों से UPI के जरिए बैंक खातों से पैसे निकालने की साजिश कर रहे हैं.

हाल ही में जालसाजों ने बेंगलुरू के एक शख्स को निशाना बनाया. जालसाजों ने व्यक्ति को 50,000 रुपए का चूना लगा दिया. इस व्यक्ति FASTag को लेकर कंप्लेंट फाइल की थी. इसके बाद शख्स के पास एक्सिस बैंक के एक कथित ग्राहक सेवा कर्माचारी की ओर से फोन आया. ये एक फेल कॉल थी. फेक कॉल में FASTag वॉलेट को एक्टिव करने के लिए एक ऑनलाइन फॉर्म भरने को कहा गया.

ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन के बहाने कस्टमर का यूपीआई पिन ले लिया गया. पीड़ित के मुताबिक, उन्हें एक एसएमएस लिंक भेजा गया, इस लिंक में एक्सिस बैंक – फास्टैग फॉर्म लिखा था. इस फॉर्म के जरिए उनका नाम, रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर और यूपीआई पिन समेत कई जानकारियां हासिल कर लीं. थोड़ी देर बाद उनके फोन पर आया ओटीपी भी मांग लिया गया.

FASTag सेवा नई है. लोग इसके नियम कानून से अभी पूरी तरह परिचित नहीं हो पाए हैं. इसलिए भी जालसाज आसानी से लोगों को मूर्ख बना पा रहे हैं. आपको बता दें कि FASTag का रजिस्ट्रेशन फोन पर नहीं होता. Fastags को एक्टिव करने के लिए MyFastag ऐप का यूज करें या किसी नजदीकी बैंक शाखा पर जाकर करवा सकते हैं.