मणिपुर: छह मंत्रियों की छुट्टी, दो पूर्व कांग्रेसी विधायकों समेत 5 नए चेहरे

प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष साइखोम टिकेंद्र सिंह सोमवार को बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा समेत कई केंद्रीय नेताओं से दिल्ली में मिले थे, जिसके बाद बीरेन सिंह कैबिनेट (Biren Singh Cabinet) में फेरबद की अटकलें तेज हो गई थीं.

  • TV9 Hindi
  • Publish Date - 9:02 pm, Thu, 24 September 20

मणिपुर में कैबिनेट फेरबदल की अटकलों के बीच मुख्यमंत्री एन बीरेन सिंह (N. Biren Singh) ने गुरुवार को छह मंत्रियों को उनके पद से हटा दिया. हटाए गए छह मंत्रियों में से तीन मंत्री BJP, दो सहयोगी दल नेशनल पीपुल्स पार्टी (NPP) और एक लोक जनशक्ति पार्टी से हैं. राज्यपाल नजमा हेपतुल्ला ने मुख्यमंत्री को लिखे अपने पत्र के अनुसार सिफारिश को स्वीकार कर लिया है.

मंत्रियों को हटाने के बाद काफी जल्दबाजी में शपथ ग्रहण समारोह हुआ, जिसमें पांच नए कैबिनेट मंत्रियों को शामिल किया गया. इनमें से दो विधायक वो हैं जो हाल ही में कांग्रेस छोड़कर बीजेपी में आए हैं. कैबिनेट की एक सीट अभी भी खाली है.

इन मंत्रियों की हुई छुट्टी

प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष साइखोम टिकेंद्र सिंह सोमवार को बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा समेत कई केंद्रीय नेताओं से दिल्ली में मिले थे, जिसके बाद बीरेन सिंह कैबिनेट में फेरबद की अटकलें तेज हो गई थीं. रिपोर्ट के मुताबिक मुख्यमंत्री ने इस महीने की शुरुआत में पार्टी के केंद्रीय नेतृत्व के साथ प्रस्तावित बदलावों पर चर्चा की थी.

यह भी पढ़ें- कश्मीर मुद्दे पर भारत की तुर्की को दो टूक, अंदरूनी मामलों में दखल बर्दाश्त नहीं

तीन बीजेपी मंत्री वी हनखालियान, नेमचा किपगेन और ठोकचोम राधेश्याम सिंह की कैबिनेट से छुट्टी हुई है. नेशनल पीपुल्स पार्टी से जयन्त कुमार सिंह और एन काईसी, वहीं एलजेपी के करन श्याम को कैबिनेट मंत्री के पद से हटा दिया गया है. बीरेन सिंह सरकार में सिर्फ नेमचा किपगेन इकलौती महिला मंत्री थीं.

इन्हें मिली कैबिनेट में जगह

बीरेन सिंह कैबिनेट में पांच विधायकों को जगह मिली है. बीजेपी विधायक एस राजेन सायब्रत और वी वालते को मंत्री बनाया गया है. दो पूर्व कांग्रेस विधायकों को भी कैबिनेट में जगह मिली है. ओइनम लुखोई सिंह और पूर्व मुख्यमंत्री ओकराम इबोई सिंह के भतीजे ओकराम हेनरी को कैबिनेट में जगह मिली है.

यह भी पढ़ें- योगी सरकार का ‘ऑपरेशन दुराचारी’, चौराहों पर लगेंगे छेड़खानी करने वालों के पोस्टर

इससे पहले अगस्त में मुख्यमंत्री ने विधानसभा में ध्वनिमत के माध्यम से विश्वास प्रस्ताव जीता था. जानकारी के मुताबिक जिन दो पूर्व कांग्रेस विधायकों को कैबिनेट में जगह मिली है उन्होंने बीजेपी को राज्यसभा चुनाव के दौरान समर्थन दिया था.