केजरीवाल के ‘पानी माफ-बिजली हाफ’ पर बोले मनोज तिवारी- BJP का इससे भी बड़ा प्लान

BJP दिल्ली के प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी ने गुरूवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस में केजरीवाल सरकार की फ्री बिजली स्कीम को लेकर पलटवार किया.

नई दिल्ली: BJP दिल्ली के अध्यक्ष मनोज तिवारी ने गुरूवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस की. इस दौरान उन्होंने ऐलान किया कि CM केजरीवाल ने जो बिजली का रेट माफ किया है, हम इससे भी ज्यादा की सोच रहे हैं. हम वह भी करके दिखाएंगे.

मनोज तिवारी ने कहा, ‘अरविंद केजरीवाल ने तो कुछ नहीं माफ किया है भाईसाहब. यह 200 यूनिट, बीजेपी जिस स्तर पर सोच रही है उसमें दिल्ली के हर बिजली उपभोक्ता को ध्यान में रखते हुए और बड़ी राहत देगी. बीजेपी इससे बहुत ज्यादा राहत देना चाहती है.’

‘बिजली उपभोक्ताओं को लूटा गया’

मनोज तिवारी ने कहा, ‘केजरीवाल जी आपने तो कहा था दिल्ली में पानी माफ़ बिजली हाफ 2015 में. लेकिन उसके बाद एक लेटर आया जिसमें कहा गया कि नहीं नहीं ये उन लोगो का होगा. जो 200 यूनिट कम खर्च करने वाले उनका होगा. जब तक वो सोच रहे थे. चलो हमारा हाफ हुआ लेकिन 1 अप्रैल 2018 में फिक्स चार्ज का लोगों को झटका दिया. बिजली उपभोक्ताओं को लूटा गया.’

‘चुनाव से पहले लोगों को लालच दे रहे’

उन्होंने आगे कहा, ‘अब जब 54 हफ्ते बीते गए तब कह रहे हैं कि 200 यूनिट तक फ्री देने का अश्वासन दे दिया है. हम इस बात से खुश है. साढ़े 8 हजार रुपये आप फिक्स नाम पर लूटते है. अब जब आप के पास छह महीने बचे है तो उसमें से कुछ करोड़ रुपये खर्च कर चुनाव से पहले लोगों को लालच दे रहे है.

केजरीवाल जी अब आपकी अगली पीसी कब होगी. जिसमे में अब ये एलान करेंगे. जो रुपये फिक्स चार्ज के नाम पर लिया है. उसे कब वापस करेंगे. बीजेपी केजरीवाल से डिमांड करती है कि आप फिक्स चार्ज के नाम पर लिए रुपये को वापस करें. नहीं तो दिल्ली वाले आप को दंड देगी.’

‘पीपीए चार्ज लगा कर बिजली के बिल बढ़ गए’

नेता प्रतिपक्ष विजेंद्र गुप्ता ने कहा कि, केजरीवाल सरकार ने अपने साढ़े चार साल में कुछ नहीं किया. दिल्ली में जो टैक्स पेयर हैं वह ठग महसूस कर रहे हैं. उसके लिए कोई नई बस नहीं खरीदी. कोई नया स्कूल नहीं खुला. दिल्ली वालों को बिजली हाफ होने के बजाए फिक्स चार्ज और पीपीए चार्ज लगा कर बिजली के बिल बढ़ गए.

’18 सौ करोड़ रुपये की सब्सिडी दे रही सरकार’

विजेंद्र गुप्ता ने कहा कि, ‘केजरीवाल जी आप ने जो 200 यूनिट का माफ करने की बात कही है. उसका पैसा कहा से आएगा. इस साल बजट में इसका जिक्र नही था. कौन सा विकास का काम आप रोक रहे हैं. 25 हजार करोड़ रुपये हर साल रिवेन्यू से जमा कर रहे हैं. 18 सौ करोड़ रुपये की सब्सिडी दे रही है सरकार.

200 यूनिट पर आप 600 करोड़ रुपये कहा से आएंगे. केजरीवाल सरकार ने ने चुनावी सिफूगा छोड़ा है. केजरीवाल सरकार ने 49 दिन की सरकार के दौरान कहा था कि बिजली कंपनियो का सीएजी ऑडिट करवाएंगे. लेकिन आज कह रहे कि कंपनी घाटे में चल रही थी.’

ये भी पढ़ें- खाते में आ रहे 15 लाख, मैसेज वायरल हुआ और बैंकों के बाहर जुट गई भीड़

ये भी पढ़ें- क्या है झटका और हलाल मीट में अंतर, जिस पर ट्रोल हो रहा Zomato