सीजफायर उल्लंघन से बाज नहीं आ रहा पाकिस्तान, गोलीबारी में लांस नायक शहीद

जम्मू-कश्मीर के कृष्णा घाटी सेक्टर में बुधवार रात पाकिस्तान की ओर से की गई अकारण गोलीबारी में लांस नायक करनैल सिंह (Lance Naik Karnail Singh) शहीद हो गए. डिफेंस पीआरओ ने इसकी जानकारी दी है.

  • TV9 Hindi
  • Publish Date - 9:27 am, Thu, 1 October 20

पाकिस्तान (Pakistan) लाइन ऑफ कंट्रोल (LoC) पर संघर्ष विराम (Ceasefire) का उल्लंघन करने से बाज नहीं आ रहा है. जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmnir) के कृष्णा घाटी सेक्टर में बुधवार रात पाकिस्तान की ओर से की गई अकारण गोलीबारी में लांस नायक करनैल सिंह (Lance Naik Karnail Singh) शहीद हो गए. डिफेंस पीआरओ ने इसकी जानकारी दी है. भारत की ओर से पाकिस्तान की सेना को लगातार मुंहतोड़ जवाब दिया जा रहा है.

रिपोर्ट के मुताबिक, गोलीबारी में रायफलमैन विरेंद्र सिंह घायल हुए हैं उन्हें आंख में चोट लगी है. घायल जवान को अभी राजौरी के आर्मी अस्पताल में शिफ्ट किया गया है. फिलहाल उनकी हालत में कुछ सुधार बताया जा रहा है.

इस साल पाकिस्तान ने LoC पर 3,186 बार तोड़ा सीजफायर, पिछले 17 सालों में सबसे ज्यादा

शहीद करनैल सिंह को सेना का सलाम

सेना की ओर से शहीद करनैल सिंह को सलाम किया गया है और जानकारी दी गई है कि पाकिस्तान की ओर से जारी फायरिंग में 30 सितंबर, 2020 को उन्होंने देश के लिए बलिदान दिया. सुरक्षाबलों ने शहीद जवान के परिवार से बात की है.


पुंछ जिले में लगातार सीजफायर का उल्लंघन

गौरतलब है कि पाकिस्तान की सेना ने जम्मू-कश्मीर के पुंछ जिले में बुधवार को लगातार सातवें दिन नियंत्रण रेखा (एलओसी) पर संघर्ष विराम का उल्लंघन किया. रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता कर्नल देवेंद्र आनंद ने कहा, “आज सुबह करीब 6.45 बजे पाकिस्तान ने पुंछ जिले के मानकोट सेक्टर में बिना किसी उकसावे के नियंत्रण रेखा पर छोटे हथियारों से गोलीबारी की और मोर्टार से गोले दागकर संघर्ष उल्लंघन शुरू किया.”

2020 में अबतक 3,186 से अधिक बार सीजफायर उल्लंघन

पाकिस्तान इस वर्ष की शुरुआत से ही भारत और पाकिस्तान द्वारा 1999 में किए गए द्विपक्षीय संघर्ष विराम समझौते का उल्लंघन कर रहा है. जनवरी 2020 से नियंत्रण रेखा पर पाकिस्तान द्वारा किए गए 3,186 से अधिक संघर्ष विराम उल्लंघन में कम से कम 24 नागरिक मारे गए हैं और 100 से ज्यादा घायल हुए.

पाकिस्‍तान को सता रहा भारत के साथ भीषण युद्ध का डर