महबूबा मुफ्ती ने की अपील, रमज़ान के दौरान सीजफायर का ऐलान करे सरकार, आतंकी ना करें हमला

महबूबा मुफ्ती ने कहा, यह इबादत का महीना है और इसलिए मैं बीते साल की तरह केन्द्र से संघर्षविराम की घोषणा का आग्रह करती हूं.

नई दिल्ली: जम्मू एवं कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री और पीपुल्स डेमोकट्रिक पार्टी (पीडीपी) की अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती (Mehbooba Mufti) ने शनिवार को केंद्र से कहा कि आगामी पवित्र रमजान महीने के दौरान राज्य में संघर्षविराम घोषित किया जाए.

महबूबा ने यहां उच्च सुरक्षा वाले अपने गुपकर रोड आवास पर कहा कि कश्मीर के लोग आतंकवाद और पत्थरबाजी के नाम पर अपार कठिनाइयों का सामना कर रहे हैं. उन्होंने कहा, “लोग पवित्र रमजान महीने के दौरान दिन-रात नमाज अदा करते हैं और सरकार को घाटी में अपने आतंकवाद रोधी अभियान को रोकने पर विचार करना चाहिए, जैसा कि पिछले साल किया गया था, जब मैं मुख्यमंत्री थी.”

उन्होंने आतंकवादियों से भी अपील की कि वे रमजान महीने के दौरान सुरक्षा बलों पर हमले रोक दें. रमजान सात मई से शुरू हो रहा है. महबूबा ने यह भी आरोप लगाया कि कश्मीर के लोगों को हर तरफ से परेशान किया जा रहा है. उन्होंने कहा, “आतंकवाद के नाम पर लोगों को डराया और प्रताड़ित किया जा रहा है, जबकि लोगों को आर्थिक रूप से परेशान करने के लिए जे एंड के बैंक जैसे विभिन्न संस्थानों को निशाना बनाया जा रहा है.

यह भी पढ़ें, PM मोदी और अमित शाह को क्लीन चिट पर बंटा EC, एक अधिकारी ने जताई थी असहमति