Mehbooba Mufti released, महबूबा मुफ्ती 8 महीने की हिरासत के बाद आज हो सकती हैं रिहा
Mehbooba Mufti released, महबूबा मुफ्ती 8 महीने की हिरासत के बाद आज हो सकती हैं रिहा

महबूबा मुफ्ती 8 महीने की हिरासत के बाद आज हो सकती हैं रिहा

महबूबा मुफ्ती (Mehbooba Mufti) को पांच पिछले साल अगस्त महीने में राज्य के दो अन्य पूर्व मुख्यमंत्रियों- फारुख अब्दुल्ला और उमर अब्दुल्ला के साथ हिरासत में लिया गया था. महबूबा बीते आठ महीनों से पब्लिक सेफ्टी एक्ट (PSA) के तहत हिरासत में हैं.
Mehbooba Mufti released, महबूबा मुफ्ती 8 महीने की हिरासत के बाद आज हो सकती हैं रिहा

जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती (Mehbooba Mufti) को आज यानी बुधवार को रिहा किया जा सकता है. महबूबा बीते आठ महीनों से पब्लिक सेफ्टी एक्ट (PSA) के तहत हिरासत में हैं. सूत्रों ने आईएएनएस को बताया कि महबूबा पर से पीएसए हटाने का आदेश आज इस केंद्र शासित प्रदेश के गृह मंत्रालय से आ सकता है.

मुफ्ती को पांच अगस्त, 2019 को राज्य के दो अन्य पूर्व मुख्यमंत्रियों- फारुख अब्दुल्ला और उमर अब्दुल्ला के साथ हिरासत में लिया गया था.

इन नेताओं को राज्य में धारा 370 को हटाए जाने के बाद हिरासत में लिया गया था. फारुख को तो बीते महीने रिहा कर दिया गया था जबकि उमर को मंगलवार को रिहा किया गया था.

उमर अब्दुल्ला की रिहाई पर मुफ्ती का ट्वीट

गौरतलब है कि जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला को लगभग आठ महीने बाद मंगलवार को हिरासत से रिहा कर दिया गया. उनकी रिहाई पर महबूबा मुफ्ती ने खुशी जताई है और मोदी सरकार को महिलाओं से ज्यादा भयभीत बताया था.

महबूबा मुफ्ती ने लिखा है कि खुशी की बात है कि वह (उमर अब्दुल्लाह) रिहा होंगे. मुफ्ती ने अपनी रिहाई को लेकर मोदी सरकार की नारी सशक्तीकरण की बातों पर तंज कसते हुए कहा कि वे लोग जो नारी शक्ति और नारी मुक्ति की बात करते हैं, लगता है ऐसी सरकार महिलाओं से सबसे ज्यादा डरती है.


महबूबा मुफ्ती की बेटी ने की रिहाई की मांग

इससे पहले महबूबा मुफ्ती की बेटी इल्तिजा मुफ्ती ने उपराज्यपाल जी.सी.मुर्मू को पत्र लिखकर देश भर की जेलों से कश्मीरी कैदियों की रिहाई की मांग की थी.

उन्होंने पत्र में लिखा, “जैसा कि आप जानते हैं हजारों कश्मीरी, जिसमें मेरी मां पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती भी शामिल हैं, जो कि पांच अगस्त से जेल में हैं. जिस तरह पूरी दुनिया कोविड-19 से लड़ रही है. विश्व स्वास्थ्य संगठन इसे महामारी घोषित कर चुका है. भारत में यह तीसरे स्तर पर पहुंचने की स्थिति में है. जम्मू-कश्मीर में भी चार मामले सामने आ चुके हैं, जिनके आगे बढ़ने की संभावना है.”

उन्होंने आगे लिखा, “चूंकि कोई भी इस बीमारी का इलाज या वैक्सीनेशन नहीं जानता है, ऐसे में खुद को आइसोलेशन में रखना ही इससे बचने का सबसे सुरक्षित तरीका है. क्षमता से ज्यादा भरी हुई जेलों में चिकित्सा सुविधाएं नाकाफी हैं. ऐसे में यह कहना अतिश्योक्ति नहीं होगी कि देश के सभी कैदी इस महामारी के नए केन्द्र हो सकते हैं.”

(IANS इनपुट के साथ)

Mehbooba Mufti released, महबूबा मुफ्ती 8 महीने की हिरासत के बाद आज हो सकती हैं रिहा
Mehbooba Mufti released, महबूबा मुफ्ती 8 महीने की हिरासत के बाद आज हो सकती हैं रिहा

Related Posts

Mehbooba Mufti released, महबूबा मुफ्ती 8 महीने की हिरासत के बाद आज हो सकती हैं रिहा
Mehbooba Mufti released, महबूबा मुफ्ती 8 महीने की हिरासत के बाद आज हो सकती हैं रिहा