कश्मीर: महबूबा मुफ्ती, उमर अब्दुल्ला, सज्जाद लोन समेत कई नेता हाउस अरेस्ट

पीडीपी नेता महबूबा मुफ्ती ने ट्वीट कर कहा, "कैसी विडंबना है कि हमारे जैसे चुने हुए प्रतिनिधि जो शांति के लिए लड़े हैं, घर में नजरबंद हैं."

श्रीनगर: जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती और उमर अब्दुल्ला को रविवार देर रात नजरबंद कर लिया गया है. पूर्व विधायकों सहित कई अन्य मुख्यधारा के नेताओं को भी अपने निवास स्थान नहीं छोड़ने के लिए कहा गया है. देर रात के आदेश में, राज्य प्रशासन ने तत्काल प्रभाव से श्रीनगर में अनिश्चितकाल तक धारा 144 लगा दी है.

पीडीपी नेता महबूबा मुफ्ती ने ट्वीट कर कहा, “कैसी विडंबना है कि हमारे जैसे चुने हुए प्रतिनिधि जो शांति के लिए लड़े हैं, घर में नजरबंद हैं. हमें दुनिया उन लोगों के रूप में देखती है, जिनकी आवाजें जम्मू-कश्मीर में गूंजी हैं. वहीं कश्मीर जिसने एक धर्मनिरपेक्ष लोकतांत्रिक भारत को चुना था, अकल्पनीय उत्पीड़न का सामना कर रहा है. भारत जागो भारत.”

वहीं सूबे के पूर्व मुख्यमंत्री और नेशनल कॉन्फ्रेंस नेता उमर अब्दुल्ला ने ट्वीट कर कहा, “मेरा मानना ​​है कि मुझे आज रात आधी रात से घर में नजरबंद रखा जा रहा है और ऐसा ही अन्य मुख्यधारा के नेताओं के साथ भी किया जा रहा है. अल्लाह हमें बचाए.”

इसके अलावा, राज्य प्रशासन के एक आधिकारिक आदेश में कहा गया है कि धारा 144 के तहत 5 अगस्त की मध्यरात्रि से तत्काल प्रभाव से श्रीनगर में प्रतिबंध लगाए गए हैं. आदेश के मुताबिक जनता का कोई मूवमेंट नहीं होना चाहिए और सभी शैक्षणिक संस्थान भी बंद रहेंगे. इस अवधि के दौरान किसी भी तरह की जनसभा या रैलियां आयोजित करने पर भी पूर्ण प्रतिबंध रहेगा.

महबूबा मुफ्ती ने रविवार देर रात एक ट्वीट में कहा कि राज्य के नेताओं को घर में नजरबंद रखने और धारा 144 लागू करने के कदम को ‘किसी भी मानक से सामान्य नहीं माना जा सकता.’ मालूम हो कि जम्मू कश्मीर पीपुल्स कॉन्फ्रेंस नेता सज्जाद गनी लोन को भी हाउस अरेस्ट किया गया है.

ये भी पढ़ें: अलगाववादी नेता सैयद अली शाह गिलानी का ट्विटर अकाउंट हुआ सस्पेंड, पाकिस्तान करता था संचालन