10 सरकारी बैंकों का विलय, जानें ग्राहकों पर होगा क्या असर

विलय होने वाले बैंकों के क्रेडिट/डेबिट कार्ड को जिस बैंक में मर्जर किया जा रहा है, उसमें बदलवाना होगा.

केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने शुक्रवार को एक साथ कई सरकारी बैंकों को विलय की घोषण की. उन्होंने बताया कि विलय के बाद सरकारी बैंकों की संख्या 27 से घटकर 12 रह जाएगी. सरकारी बैंकों के इस विलय का असर उन लोगों पर असर पड़ने की संभावना है जिनका बचत खाता या फिक्स्ड डिपॉजिट इन बैंकों में है.

मालूम हो कि 6 छोटे सरकारी बैंकों का भारतीय स्टेट बैंक में तथा विजया बैंक, देना बैंक का बैंक ऑफ बड़ौदा में विलय पहले ही हो चुका है. इस तरह से एसबीआई और बैंक ऑफ बड़ौदा विलय के बाद 10 सरकारी बैंकों में पहले ही शीर्ष दो बड़े बैंकों में तब्दील हो चुके हैं.

आप पर हो सकता है ये असर-

  • विभिन्न बैंकों के विलय के बाद आपको अपना चेक बुक बदलवाने के लिए तैयार हो जाना चाहिए. हालांकि मौजूदा चेक बुक कुछ समय तक मान्य होंगे. आखिरकार विलय के बाद नए बैंक के साथ आपको अपना चेक बुक रिप्लेस कराना पड़ेगा.
  • आप अपना बैंक अकाउंट नंबर और IFSC कोड विभिन्न फाइनेंशियल ट्रांजैक्शन जैसे ECS, सैलरी का ऑटो क्रेडिट, बिल/चार्जेज के लिए ऑटो डेबिट के लिए दे चुके होंगे. बैंकों के विलय के बाद आपका बैंक अकाउंट नंबर और IFSC कोड बदल जाएंगे. ऐसे में आप इसे अपडेट करवाने के लिए तैयार रहें.
  • इन बैंकों से लोन लेने वाले ग्राहकों के लिए ब्याज दर में क्या बदलाव होगा, ये अभी साफ नहीं हो पाया है. क्योंकि हर एक बैंक के MCLR रेट अलग-अलग हैं.
  • विलय होने वाले बैंकों के क्रेडिट/डेबिट कार्ड को जिस बैंक में मर्जर किया जा रहा है, उसमें बदलवाना होगा. हालांकि मर्जर होने तक आपके डेबिट/क्रेडिट कार्ड मान्य होंगे.
  • इस विलय से शेयर बाजार में लिस्टडे सरकारी बैंकों के शेयरहोल्डर्स प्रभावित होंगे. स्वैप रेश्यो की घोषणा होने के बाद ही यह पता चल पाएगा कि संबंधित शेयरहोल्डर्स कितना प्रभावित होंगे.
  • आपको बैंकों में किए फिक्स्ड डिपॉजिट और आरडी के पेपर संभालकर रख लेना चाहिए. क्योंकि आपको इसे विलय किए गए बैंक में ट्रांसफर कराना होगा.

विलय की घोषणा के दौरान निर्मला सीतारमण ने कहा कि बैंक ऑफ इंडिया, सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया पहले की तरह ही अपना कामकाज करते रहेंगे. वहीं, इंडियन ओवरसीज बैंक, यूको बैंक, बैंक ऑफ महाराष्ट्र और पंजाब एंड सिंध बैंक के कामकाज में किसी तरह का बदलाव नहीं होगा.

ये भी पढ़ें-

दिग्विजय सिंह ने MP के मंत्रियों को लिखी चिट्ठी, मचा सियासी हंगामा

अगले साल 15 अगस्त पर PoK में लहराएगा भारत का तिरंगा: दिलीप घोष

सपा सांसद आजम खान की बहन को पुलिस ने हिरासत में लिया, जानें क्या रही वजह