माइक्रोसॉफ्ट के CEO सत्य नडेला के पिता बीएन युगांधर का निधन

पूर्व ब्यूरोक्रेट बीएन युगांधर 2004 से 2009 तक योजना आयोग के सदस्य रहे. पूर्व प्रधानमंत्री नरसिम्हा राव के कार्यकाल में वह PMO में पदस्थ थे.

पूर्व ब्यूरोक्रेट और माइक्रोसॉफ्ट के मुख्य कार्याधिकारी (CEO) सत्य नडेला के पिता बीएन युगांधर का 82 साल की उम्र में निधन हो गया. वे 1962 बैच के IAS अधिकारी थे. बीएन युगांधर 2004 से 2009 तक योजना आयोग के सदस्य रहे, इसके अलावा वह मसूरी स्थित लाल बहादुर शास्त्री राष्ट्रीय प्रशासन अकादमी के निदेशक भी रहे.

‘ठीक नहीं था स्वास्थ्य’

बीएन युगांधर ने पूर्व प्रधानमंत्री नरसिम्हा राव के कार्यकाल में वह PMO में पदस्थ थे. इसके अलावा ग्रामीण विकास मंत्रालय में सचिव भी रहे. उनके नजदीकी सूत्रों ने बताया कि उनका दोपहर में निधन हो गया. उन्होंने बताया कि युगांधर का स्वास्थ्य पिछले कुछ दिनों से ठीक नहीं था.

कई हस्तियों ने व्यक्त किया शोक

उनके निधन पर कई हस्तियों ने शोक व्यक्त किया है. तेलंगाना के मुख्य सचिव एस के जोशी ने युगांधर के निधन पर शोक व्यक्त करते हुए कहा, ‘‘वह IAS अधिकारियों के अगुवा थे और सिविल सेवा अधिकारियों के ताज में हीरा थे.’’

उपराष्ट्रपति ने जताया शोक

बीएन युगांधर के निधन पर उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने शोक जताया है. वेंकैया नायडू ने कहा कि वे बीएन युगांधर के निधन की खबर सुनकर दुखी हैं, वे एक समर्पित अधिकारी थे, उन्होंने समाज के पिछड़े तबकों और ग्रामीण भारत के विकास के लिए काम किया.

‘IAS अधिकारियों के लिए प्रेरणास्रोत’

पूर्व केंद्रीय गृह सचिव के पद्मनाभैया ने युगंधर के साथ अपने जुड़ाव के बारे में कहा, ‘‘वह एक प्रतिबद्ध एवं बेहतरीन अधिकारी थे. वह IAS अधिकारियों के लिए प्रेरणास्रोत हुआ करते थे. वह वामपंथी विचारधारा से प्रभावित थे. यह हम सभी का नुकसान है.’’

‘अधिकारियों के आदर्श थे’

तेलंगाना IAS अधिकारी संघ के अध्यक्ष बीपी आचार्य ने कहा कि युगंधर ग्रामीण विकास के क्षेत्र में योगदान के लिए युवा अधिकारियों के आदर्श थे. ‘‘ईश्वर उनकी आत्मा को सद्गति प्रदान करे.’’

केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने भी उनके निधन पर शोक जताया है. धर्मेंद्र प्रधान ने कहा कि वे सेवानिवृत IAS बीएन युंगाधर के निधन की खबर सुनकर दुखी है, उन्होंने गरीबों के लिए कल्याणकारी योजनाओं के कार्यान्यवयन में अहम भूमिका निभाई.