Lockdown: आज 18 ट्रेनों से 30 हजार प्रवासी मजदूरों ने छोड़ी दिल्ली

रेल के जरिए अपने गांव घरों लौटने के लिए इन श्रमिकों को दिल्ली सरकार (Delhi Government) की वेबसाइट पर अपना रजिस्ट्रेशन कराना होता है. सरकार के मुताबिक 7 मई से 25 मई तक 196 ट्रेनों से 2,41,169 लोगों को उनके घर भेजा गया है.

मंगलवार को करीब 30,000 प्रवासी मजदूर दिल्ली (Delhi) छोड़कर अपने-अपने गांवों और प्रदेशों के लिए रवाना हो गए. दिल्ली के अलग-अलग रेलवे स्टेशनों से इन सभी प्रवासी मजदूरों के लिए 18 ट्रेनों की व्यवस्था की गई थी. दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया (Manish Sisodia) ने कहा, मंगलवार को दिल्ली से रवाना होने वाली 18 ट्रेनों में से 11 ट्रेनें बिहार और 6 ट्रेनें उत्तर प्रदेश भेजी गई हैं.

देखिये #अड़ी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर शाम 6 बजे

सबकी निशुल्क रेलयात्रा का प्रबंध दिल्ली सरकार ने किया है

सिसोदिया ने कहा, सात मई से 25 मई तक 196 ट्रेनों से 2,41,169 लोगों को उनके घर भेजा गया है. इनमें सबसे अधिक बिहार के 1,25,711 लोग हैं, जबकि उप्र के 96,610 लोग हैं. इसके साथ ही, झारखंड के 3132, पश्चिम बंगाल के 3864, मध्यप्रदेश के 9196 प्रवासी श्रमिकों को भेजा गया है. दिल्ली सरकार ने प्रवासी मजदूरों से पैदल यात्रा न करने की अपील की है. सरकार के मुताबिक सबकी निशुल्क रेलयात्रा का प्रबंध दिल्ली सरकार ने किया है.

सिसोदिया ने कहा, मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने पहले ही कह दिया था कि जो प्रवासी मजदूर दिल्ली में हैं, वे भी दिल्ली के ही लोग हैं, दिल्ली ही उनका घर है. उन्हें कहीं जाने की जरूरत नहीं है. हमने सबका इंतजाम किया है. इसके बावजूद काम बंद होने और घर-परिवार की चिंता या दूसरे कारणों से बहुत से लोग अपने गांव लौटने लगे.

मजदूरों के लिए दिल्ली में 2500 राहत शिविर चल रहे हैं

रजिस्टर्ड प्रवासी मजदूरों की दिल्ली के स्कूलों में स्क्रीनिंग (Screening) की जा रही है. टेंपरेचर चेक और स्वास्थ्य जांच के बाद यात्रा के लिए उपयुक्त लोगों को बस से स्टेशन भेजा जा रहा है. रास्ते के लिए इन लोगों को पानी की बोतल और भोजन की व्यवस्था भी की जा रही है. रेल के जरिए अपने गांव घरों लौटने के लिए इन श्रमिकों को दिल्ली सरकार की वेबसाइट पर अपना रजिस्ट्रेशन कराना होता है.

सरकार के मुताबिक, दिल्ली में लगभग 2500 राहत शिविर चल रहे हैं, और इनमें 10 लाख लोगों को भोजन कराया जा रहा था, हालांकि अभी इस संख्या में कुछ कमी आई है. लगभग 72 लाख परिवारों को पीडीएस राशन और 38 लाख परिवारों को नॉन-पीडीएस राशन दिया जा रहा है. दिल्ली सरकार ने बीती रात तुगलकाबाद स्थित झुग्गियों में आग लगने से प्रभावित लोगों को आर्थिक मदद देने की घोषणा की है. मुख्यमंत्री ने प्रत्येक परिवार को 25,000 रुपये की सहायता राशि देने के निर्देश दिए हैं. साथ ही, प्रभावित लोगों के लिए पास के स्कूल में रहने की व्यवस्था करने का आदेश दिया है.

देखिये फिक्र आपकी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 9 बजे

 

Related Posts