“मैं फिट रहने के लिए जिम नहीं जाता”, पीएम मोदी से बोले मिलिंद सोमन

मिलिंद सोमन (Milind Soman) ने कहा, “मैं 2012 में दिल्ली से मुंबई (Delhi to Mumbai) दौड़ा था. मेरी मां 81 साल की हैं, वो जो आज कर सकती हैं, मुझे उनकी उम्र में वैसा ही बनना है. मिलिंद सोमन ने कहा कि हमारे दादा लोग 40-40 किलोमीटर पैदल चलते थे.”

  • TV9 Hindi
  • Publish Date - 6:50 pm, Thu, 24 September 20

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने गुरुवार को फिट इंडिया मुहिम की पहली वर्षगांठ के अवसर पर फिटनेस जगत की हस्तियों से संवाद किया, ताकि देश के लोगों को फिट रहने के लिए प्रेरित किया जा सके. इस दौरान एक्टर और ‘आयरन मैन’ मिलिंद सोमन (Milind Soman) ने अपनी 81 वर्षीय मां को फिटनेस की मिसाल बताया. मिलिंद सोमन ने कहा कि उनकी मां ने 60 साल की उम्र में ट्रैकिंग शुरू की. मिलिंद ने बताया कि वह फिट रहने के लिए जिम जाने में विश्वास नहीं करते. वह आठ बाई दस फुट की जगह में भी फिट रह सकते हैं.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के एक सवाल के जवाब में मिलिंद सोमन ने बताया, “मेरा कोई रूटीन नहीं है. मुझे एक्सरसाइज (Exercise) करना पसंद है. दिन में जितना समय मिलता है, चाहे तीन मिनट हो या तीन घंटे, मैं एक्टिविटीज करता रहता हूं. मैं कभी जिम नहीं जाता. मैं कभी मशीन यूज नहीं करता. अगर सामान्य रूप से फिट रहना है, हेल्दी बनना है तो घर पर भी आसान चीजों को लेकर भी फिट और हेल्दी रह सकता हूं. मैं लोगों से कहता हूं कि आठ बाई दस फुट की जगह में भी मैं फिट रह सकता हूं.”

‘मैं 2012 में दिल्ली से मुंबई दौड़ा था’

मिलिंद सोमन ने कहा, “मैं 2012 में दिल्ली से मुंबई (Delhi to Mumbai) दौड़ा था. मेरी मां 81 साल की हैं, वो जो आज कर सकती हैं, मुझे उनकी उम्र में वैसा ही बनना है. मेरी मां मिसाल हैं. मिलिंद सोमन ने कहा कि हमारे दादा लोग 40-40 किलोमीटर पैदल चलते थे. देश के कई हिस्सों में महिलाएं पानी लेने के लिए 40-40 किमी चलती हैं.

’40 की उम्र में जिंदगी खत्म नहीं होती’

मिलिंद ने कहा कि मैं मैराथन (Marathon) दौड़ सकता हूं. इसकी तैयारी कर सकता हूं. लोगों को समझ होनी चाहिए कि हमें कितना फिट रहना चाहिए. मैराथन, पर्वत चढ़ने या सामान्य जीवन जीने को लेकर फिट रहने के अलग-अलग मापदंड (क्राइटेरिया) होते हैं. फिट इंडिया मूवमेंट (Fit India Movement) के जरिए इस समझ को बढ़ाना होगा. लोगों को समझना चाहिए कि 40 की उम्र में जिंदगी खत्म नहीं होती बल्कि यहां से शुरुआत हो सकती है. (IANS)

ये भी पढ़ें : Fit India Movement: पीएम मोदी ने कोहली से पूछा, क्या आप भी यो-यो टेस्ट कराते हैं?