‘सिर पर बंदूक तानी तो बात नहीं होगी’, विदेश मंत्री ने कहा- सभ्‍य तरीके से पेश आए पाकिस्‍तान

विदेश मंत्री एस जयशंकर छह से दस सितंबर तक सिंगापुर के दौरे पर हैं. शुक्रवार को उन्होंने मिंट एशिया लीडरशिप समिट को संबोधित किया.

नई दिल्ली: सिंगापुर में मिंट एशिया लीडरशिप समिट को संबोधित करते हुए विदेश मंत्री एस जयशंकर ने शुक्रवार को कहा कि भारत, पाकिस्तान के साथ आतंकवाद के मुद्दे पर बातचीत करने के लिए तैयार है, बशर्ते पाकिस्तान यह सुनिश्चित करे कि यह ‘सभ्य” तरीके से होगी, हमारे सिर पर बंदूक तानकर नहीं.’

विदेश मंत्री एस जयशंकर छह से दस सितंबर तक सिंगापुर के दौरे पर हैं. इस सम्मेलन में लगभग 400 शिष्टमंडलों ने हिस्सा लिया है. एस जयशंकर ने कश्मीर को लेकर ऐतिहासिक, शासकीय और राजनीतिक मुद्दे पर जोर देते हुए कहा -“अनुच्छेद 370 का भारतीय संविधान में अस्थाई प्रावधान था. अस्थाई का मतलब ऐसा जिसका अंत होना है.”

पहले की स्थिति खराब थी

उन्होंने कश्मीर में 5 अगस्त से पहले की स्थिति बताते हुए कहा कि जब अनुच्छेद 370 नहीं हटाया गया था उस वक्त स्थिति बड़ी खराब थी और वहां पर नियमित रूप से आतंकी पत्रकारों और पुलिस अधिकारियों की हत्या करते थे. उन्होंने इसके सामाजिक आर्थिक असर पर बोलते हुए कहा कि जो व्यावसायिक ऊर्जा देश के अन्य भागों में दिखाई देती थी वह कश्मीर से गायब थी.

कश्मीर, भारत का आंतरिक मुद्दा

पाक के प्रधानमंत्री इमरान ने कहा था कि हम भारत से बातचीत करना चाहते हैं. ट्रम्प से मुलाकात के दौरान भी उन्होंने यही बात दोहराई थी. लेकिन, जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अमेरिका यात्रा पर गए थे तो उन्होंने ट्रम्प के सामने ही साझा बयान में साफ कर दिया था कि कश्मीर भारत का आंतरिक मुद्दा है और इस पर वे किसी अन्य देश को कष्ट देना नहीं चाहते हैं.

ये भी पढ़ें- VIDEO: ISRO चीफ के आंसू छलके तो PM मोदी ने मजबूती से गले लगाया, पीठ पर फेरते रहे हाथ

ये भी पढ़ें- चंद्रयान 2 पर निराश होने वाले पढ़ लें डॉ. कलाम की ये बात, मन में भर जाएगा नया विश्‍वास

Related Posts