सऊदी अरब में दो पंजाबियों को सिर कलम कर दी गई मौत की सजा, विदेश मंत्रालय ने की पुष्टि

सऊदी अरब में भारतीय दूतावास को दोनों को फांसी पर चढ़ाने से पहले कोई जानकारी नहीं दी गई थी.

नई दिल्ली. विदेश मंत्रालय ने इस बात की पुष्टि की है कि सऊदी अरब में दो पंजाबियों का सिर कलम कर मौत की सजा दी गई है. होशियारपुर के सतविंदर कुमार और लुधियाना के हरजीत सिंह को 28 फरवरी को मौत की सजा दी गई थी. हालांकि, दोनों आदमियों का सिर कलम करने से पहले भारतीय दूतावास को इसकी जानकारी नहीं दी गई थी. पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने इस घटना को ‘बर्बर और अमानवीय’ बताते हुए नाराजगी जाहिर की है. ये दोनों वर्क परमिट पर वहां काम कर रहे थे.

पंजाब सीएम ने विदेश मंत्रालय पर खड़े किए सवाल 

पंजाब के मुख्यमंत्री ने रोष जाहिर किया है कि विदेश मंत्रालय पहले तो इस घटना को रोक नहीं पाई और फिर दोनों की मौत की खबर को तबतक छुपाया गया जबतक सतविंदर की पत्नी ने याचिका नहीं दर्ज की. सीएम अमरिंदर सिंह ने कहा कि वह विदेश मंत्री सुषमा स्वराज से बात करेंगे ताकि दोनों आदमियों को हुई मौत की सजा के बारे में अधिक जानकारी मिल सके. कथित तौर पर दोनों को हत्या के दोष में सजा हुई है.

सऊदी नियम के मुताबिक, मरने वाले दोनों आदमियों के परिवार वालों को सिर्फ मृत्यु प्रमाणपत्र ही मिलेगा. परिवार वालों को उनके शव नहीं सौंपे जाएंगे. विदेश मंत्रालय ने सतविंदर की पत्नी सीमा रानी को पत्र लिखकर मंगलवार को इस बात की जानकारी दी थी.

सतविंदर के परिवार के अनुसार, उन्हें 2 मार्च को सऊदी में किसी ने फोन किया था और मौत की सजा की सूचना दी थी. हालांकि, आधिकारिक पुष्टि नहीं होने के कारण, सीमा रानी ने विदेश मंत्रालय से संपर्क किया. कोई ठोस जवाब नहीं मिलने पर उसने पंजाब और हरियाणा उच्च न्यायालय में एक याचिका दायर की, जिसने केंद्र को 8 अप्रैल को एक नोटिस जारी किया और यह पुष्टि करने के लिए कहा कि क्या सतविंदर को सऊदी अरब में मौत की सजा दे दी गई है.

सतविंदर और हरजीत को 9 दिसम्बर, 2015 को गिरफ्तार किया गया था. दोनों के ऊपर भारतीय नागरिक आरिफ इमामुद्दीन की कथित हत्या का आरोप है.