आर्थिक घोटाले में MNS अध्यक्ष राज ठाकरे ED की रडार पर

ED इस बात की जांच में जुटी है की ILFS ने जो पैसे कोहिनूर को ट्रांसफर किए थे, वे राज ठाकरे के पास कैसे पहुंचे इस में राजन शिडोरकर की क्या भूमिका है

आर्थिक घोटाले में महाराष्ट्र के पूर्व सीएम मनोहर जोशी के बेटे उमेश जोशी सहित एमएनएस अध्यक्ष राज ठाकरे ED की रडार पर हैं. दरअसल ILFS ने 225 करोड़ कोहिनूर CTNL को साल 2003 में दिए थे.

कोहिनूर CTNL कंपनी मुंबई के दादर में कोहिनूर स्क्वायर बना रही है और इस कंपनी के शेयर होल्डर उमेश जोशी, राज ठाकरे और उन्ही के करीबी राजन शिरोडकर थे. जिन्होंने कोहिनूर मिल नामबेर 3,421 करोड़ में साल 2003 में खरीदी थी.

2008 में ILFS का निवेश 225 करोड़ था, वो घटकर केवल 90 करोड़ रह गया और ILFS ने अपने सारे शेयर 90 करोड़ में कोहिनूर CTNL को दे दिए. गौर करने वाली बात ये है की राज ठाकरे ने भी अपने सारे शेयर कंपनी को बेच दिए और कंपनी से बाहार निकल गए.

अब ED इस बात की जांच में जुटी है की ILFS ने जो पैसे कोहिनूर को ट्रांसफर किए थे, वे राज ठाकरे के पास कैसे पहुंचे इस में राजन शिडोरकर की क्या भूमिका है, जब की राज ठाकरे की कोहिनूर CTNL कंपनी में निवेश न के बराबर है.

ये भी पढ़ें: पहले कश्मीर में तैयार किए पत्थरबाज, अब अफवाह फैलाने वालों का नेटवर्क बना रहा है पाकिस्तान