यूपी से झारखंड तक पूरे उत्‍तर भारत में इस तरह हिंसा की आग भड़का रहा अफवाह गैंग

बच्चा चोरी के ज़्यादातर मामलों में पीड़ित परिवार पुलिस के पास जाने के बजाय हिंसक भीड़ को बुलाती है.

नई दिल्ली: मॉब लिंचिंग की बढ़ती घटना क्या क़ानून के प्रति बढ़ रहे अविश्वास का परिणाम है? पिछले कुछ समय की घटनाओं को देखें तो लोगों के अंदर का ग़ुस्सा सड़कों पर ख़ूब निकल रहा है. ज़्यादातर मामलों में भीड़ हिंसक और डरावनी हो जाती है.

हापुड़ के पिलखुवा कोतवाली क्षेत्र के गांव रघुनाथपुर में शनिवार रात बच्चा चोरी के संदेह में भीड़ ने मानसिक रूप से कमजोर एक महिला की पिटाई कर दी. सूचना मिलने के बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने महिला को बचाया. मामले में पुलिस अधीक्षक यशवीर के निर्देश पर छह ग्रामीणों के खिलाफ नामजद व एक अज्ञात के खिलाफ विभिन्न धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया है.

हालांकि यह पहली बार नहीं है जब इस तरह का मामला सामने आया हो. आइए सिलसिलेवार तरीके से उन मामलों पर चर्चा करते हैं जो मीडिया में रिपोर्ट हुई थी.

27 अगस्त 2019

झारखंड के गिरिडीह में बच्चा चोरी के आरोप में भीड़ ने एक महिला की पिटाई कर दी. यह घटना उस समय हुई जब एक महिला अपने बच्चे के साथ पैसे निकालने बैंक गई थी. पुलिस नेके मुताबिक एक महिला अपने बच्चे के साथ पैसे निकालने बैंक गई थी. महिला बच्चे को बाहर खड़ा कर बैंक के अंदर चली गई. मां को पास नहीं पाकर बच्चा रोने लगा. तभी पास खड़ी एक महिला बच्चे को चुप कराने लगी. बच्चा उस महिला के साथ खेलने लगा. मां जब बैंक से बाहर आई तो उसने देखा कि उसका बच्चा एक महिला के साथ खेल रहा है. उसे लगा कि वह महिला बच्चा चोर है. जिसके बाद बच्चे की मां ने चिल्ला-चिल्ला कर वहां भीड़ इकट्ठा कर ली. भीड़ ने उस महिला की पिटाई कर दी. जिसके बाद पुलिस ने मौक़े पर पहुंचकर महिला को भीड़ से बचाया.

पुलिस ने बताया कि बच्चा चोरी के शक में पहले लोगों ने महिला की पिटाई की और बाद में बंधक बना लिया. सूचना मिलने पर जब हम मौके पर पहुंचे तो लोगों ने हमपर पथराव शुरु कर दिया. पथराव से पुलिस वाहन क्षतिग्रस्त हो गया. जिसके बाद काफी मशक्कत कर पुलिस ने भीड़ से महिला को बचाया.

3 अगस्त 2019

झांसी के शहर कोतवाली क्षेत्र के उन्नाव गेट के बाहर एक बच्चे को चुराकर भाग रही एक महिला को स्थानीय लोगों ने रंगे हाथों पकड़ लिया. एक स्कूली बच्चे की मां के शोर मचाने पर स्थानीय लोगों की मदद से बच्चे को छुड़ाया गया. इसके बाद लोगों ने उसकी जमकर पिटाई की. महिला को थाना पुलिस के हवाले कर दिया गया.

3 अगस्त 2019

बिहार की राजधानी पटना में बच्चा चोरी के शक में भीड़ ने एक शख्स की पिटाई कर दी. जानकारी मिलने के बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने उस शख्स को बचा लिया और उसे अस्पताल में भर्ती कराया.

29 जुलाई, 2019

मध्‍य प्रदेश में सागर शहर के कैंट पुलिस थाना क्षेत्र के भगवानगंज में शनिवार शाम को भीड़ ने मानसिक रूप से बीमार 43 वर्षीय एक महिला की बच्चा चोर होने के शक में कथित तौर पर पिटाई कर दी. कैंट पुलिस थाने के प्रभारी जे जे चौधरी ने रविवार को बताया कि पुलिस को शनिवार शाम को सूचना मिली थी कि कुछ लोगों ने सागर रेलवे स्टेशन के पास भगवानगंज में एक महिला को बच्चा चुराने वाली समझ कर पकड़ लिया है और उसके साथ मारपीट भी कर रहे हैं.

उन्होंने कहा कि पुलिस तत्काल मौके पर पहुंची और महिला को अपनी सुरक्षा में लेकर थाने ले आई. चौधरी ने बताया कि पूछताछ में पता चला है कि इस महिला का नाम मंजू है और वह मध्य प्रदेश के रतलाम शहर की शुभम श्री कॉलोनी की रहने वाली है. उन्होंने कहा कि वह मानसिक तौर पर पूरी तरह स्वस्थ नहीं लग रही है. वह यह नहीं बता पा रही है कि किस परेशानी के चलते ट्रेन में सवार होकर यहां आई.

27 जुलाई, 2019

उत्तर प्रदेश के संभल जिले में मंगलवार को भीड़ ने बच्चा चोर होने के शक में दो भाइयों की बेरहमी से पिटाई की. पिटाई से घायल एक भाई की अस्पताल में मौत हो गई, जबकि दूसरे की स्थिति भी गंभीर बताई जा रही है. उत्तर प्रदेश के संभल जिले के पुलिस अधीक्षक यमुना प्रसाद ने बताया कि जिले के कुढ़ फतहगढ़ थाना क्षेत्र के छावड़ा गांव के रहने वाले दो भाई राजू (32) और राम अवतार (28) अपने भतीजे को दवाई दिलाने चंदौसी जा रहे थे, तभी जाराई गांव में भीड़ ने बच्चा चोर समझकर इन दोनों की पिटाई कर दी और दोनों गंभीर रूप से घायल हो गए.

26 जुलाई, 2019

मध्य प्रदेश के बैतूल जिले में तो बच्चा चोर होने के शक में भीड़ ने कांग्रेस के दो नेताओं और एक सामाजिक कार्यकर्ता की ही पिटाई कर दी. मिली जानकारी के अनुसार, यह घटना शाहपुर थाना क्षेत्र की है, यहां कांग्रेस के जिला महामंत्री धर्मेद्र शुक्ला, जनपद सदस्य रामू सिंह लांजीवार एवं आदिवासी कोरकू समाज के तहसील अध्यक्ष ललित बारस्कर गुरुवार देर रात को केसिया ग्राम से अपनी कार से घर लौट रहे थे. इस दौरान ग्राम नवल सिग ढाना रोड पर झाड़ियां पड़ी हुई थीं. बीच रास्ते में झाड़ियां पड़ी देखकर तीनों ही घबरा गये एवं अपनी कार को वापस गांव की ओर ले जाने लगे.

इसी बीच वापस होती कार को देखकर ग्रामीणों ने उनके बच्चा चोर होने के शक में उन पर हमला कर दिया. ग्रामीणों के हमले से कार भी क्षतिग्रस्त हो गई एवं तीनों नेताओं को चोटें आई हैं.

24 फ़रवरी, 2019

उत्तरी कोलकाता के फूलबगान क्षेत्र में एक युवक को बच्चा चोर होने के संदेह में भीड़ ने पीटा. पुलिस ने शनिवार को बताया कि शुक्रवार को जब एक पुलिस अधिकारी ने इस दौरान युवक को बचाने का प्रयास किया तो उनके साथ भी धक्का-मुक्की की गयी. बाद में सूचना मिलने पर फूलबगान थाने के कर्मी डोम पाड़ा इलाके में पहुंचे और उन्होंने युवक को बचाया. पुलिस के अनुसार इस घटना के सिलसिले में 17 लोग गिरफ्तार किये गये हैं. स्थानीय लोगों ने आरोप लगाया कि युवक बुर्का पहनकर इलाके में घूम रहा था और एक शॉपिंग मॉल के पीछे से बच्चों को उठाने की कोशिश कर रहा था. पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने शुक्रवार को आरोप लगाया कि बुर्का पहने लोगों को भेजकर और बच्चाचोर की अफवाह फैलाकर लोगों में दहशत पैदा की जा रही है तथा शांति व्यवस्था भंग करने की कोशिश की जा रही है.

कोलकाता पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, ‘हम इस मामले की जांच कर रहे हैं. हम शॉपिंग मॉल में लगे कैमरों के सीसीटीवी फुटेजों को जुटाने का प्रयास कर रहे हैं.’ उन्होंने कहा कि इस संबंध में एक मामला दर्ज किया गया है तथा इलाके में पुलिस की एक चौकी तैनात की गयी है.