आधुनिक दिल्ली लाशों की नींव के ऊपर नहीं बन सकती : अरविंद केजरीवाल

मुख्यमंत्री ने हेड कांस्टेबल रतनलाल को याद करते हुए कहा, "दिल्ली में शांति बनाए रखने के लिए हेड कांस्टेबल रतन लाल की शहादत को हम बेकार नहीं जाने देंगे, दिल्ली सरकार उनके परिवार को 1 करोड़ रुपए की सम्मान राशि देगी."

उत्तर पूर्वी दिल्ली में जारी हिंसा पर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि आधुनिक दिल्ली लाशों की नींव के ऊपर नहीं बन सकती. उन्होंने कहा कि अब नफरत की राजनीति बर्दाश्त नहीं की जाएगी, दंगों की राजनीती बर्दाश्त नहीं की जाएगी. इस दंगे में हिंदू-मुस्लिम हर कोई मारा जा रहा है.

उन्होंने केंद्र से हिंसाग्रस्त क्षेत्रों में सेना तैनात करने की अपील की. केजरीवाल ने बुधवार को दिल्ली विधानसभा में यह बात कही. केजरीवाल ने इन दंगों में शहीद हुए दिल्ली पुलिस के हेड कांस्टेबल रतनलाल के परिजनों को एक करोड़ रुपए की सहायता राशि देने का ऐलान किया.

केजरीवाल ने कहा, “आधुनिक दिल्ली लाशों की नींव के ऊपर नहीं बन सकती. मैं फिर से गृह मंत्री से अपील करता हूं कि दिल्ली में हालात को काबू करने के लिए आर्मी को बुलाया जाए.” विधानसभा में मुख्यमंत्री ने उत्तर पूर्वी दिल्ली के हिंसाग्रस्त इलाकों को लेकर अपनी चिंता जाहिर की और एक बार फिर केंद्र सरकार से हिंसाग्रस्त क्षेत्रों में सेना तैनात करने की अपील की.

दंगे में हर कोई मारा जा रहा है

अरविंद केजरीवाल ने विधानसभा में कहा, “अब नफरत की राजनीति बर्दाश्त नहीं की जाएगी, दंगों की राजनीति बर्दाश्त नहीं की जाएगी. इस दंगे में हर कोई मारा जा रहा है. राहुल सोलंकी की मौत हो गई वह हिंदू था, जाकिर की मौत हो गई वह मुसलमान था.”

मुख्यमंत्री ने सीधे तौर पर किसी दल या पक्ष को दिल्ली में फैली हिंसा के लिए जिम्मेदार नहीं ठहराया. उन्होंने कहा, “कुछ असामाजिक तत्व अपने निजी फायदे के लिए जनता को भड़का रहे हैं. अब पूरी दिल्ली को एक साथ खड़े होकर कहना होगा कि अब ये भाई से भाई को लड़ाने वाली राजीनीति बर्दाश्त नहीं कि जाएगी. सारे धर्म के लोगों को एक साथ खड़े होने का वक्त आ गया है. हम सबको एक साथ खड़े होने की जरूरत है.”

रतन लाल इंसानियत के लिए शहीद हुए

मुख्यमंत्री ने हेड कांस्टेबल रतनलाल को याद करते हुए कहा, “दिल्ली में शांति बनाए रखने के लिए हेड कांस्टेबल रतन लाल की शहादत को हम बेकार नहीं जाने देंगे, दिल्ली सरकार उनके परिवार को 1 करोड़ रुपए की सम्मान राशि देगी. हिंसा में शहीद हुए दिल्ली पुलिस के हेड कांस्टेबल रतन लाल इंसानियत के लिए शहीद हुए, इस देश के लिए शहीद हुए.” मुख्यमंत्री ने ऐलान किया कि रतन लाल के परिवार की जिम्मेदारी दिल्ली सरकार उठाएगी.

केजरीवाल ने अपने पूरे वक्तव्य के दौरान किसी व्यक्ति या संगठन का नाम नहीं लिया. उन्होंने केवल हिंसाग्रस्त स्थानों पर शांति बहाली की मांग केंद्र सरकार के समक्ष रखी. हालांकि विधानसभा में ही आम आदमी पार्टी के विधायक दिलीप पांडे ने कपिल मिश्रा पर हिंसा का आरोप जड़ते हुए कहा, “कपिल मिश्रा नामक व्यक्ति ने जब से अपना मुंह खोला है दिल्ली की हवा में जहर सा घुल गया है. ऐसे व्यक्ति की जल्द से जल्द गिरफ्तारी होनी चाहिए.”

ये भी पढ़ें : इनका क्या कसूर… दंगों की आग में जले लोगों की अनसुनी कहानी