बंद नहीं होगी गरीब रथ ट्रेन, रेल मंत्रालय वो वजह भी बताई, जिससे फैल गया था भ्रम

लालू प्रसाद यादव ने गरीबों को एसी ट्रेन का सफर कराने के मकसद से साल 2006 में गरीब रथ ट्रेनों की शुरुआत की थी.

  • TV9.com
  • Publish Date - 11:42 am, Thu, 18 July 19

नई दिल्ली:गरीब रथ ट्रेन बंद नहीं होने जा रही है. रेल मंत्रालय ने इस संबंध में जानकारी देते हुए बताया कि इस समय 26 जोड़ी गरीब रथ ट्रेनें चलाई जाती हैं. उत्तर रेलवे में कोच की कमी के कारण काठगोदाम-जम्मू (12207/08) और काठगोदाम-कानपुर(12209/10) मार्ग पर गरीब रथ की जगह अस्थाई तौर पर एक्सप्रेस ट्रेन चलाईं जा रही हैं. इसी वजह से भ्रम फैल गया था.

ये ट्रेन 4 अगस्त 2019 से गरीब रथ एक्सप्रेस के तौर पर फिर से प्रभावी होगी. गरीब रथ ट्रेन को बंद करने की कोई योजना नहीं है. गरीब रथ में 12 कोच हैं, सभी वातानुकूलित हैं. कम कीमत में एसी सुविधा प्रदान करने की वजह से ये ट्रेन काफी लोकप्रिय है.

इससे पहले कई मीडिया रिपोर्ट में दावा किया गया कि गरीब रथ ट्रेनें जल्द ही बंद हो सकती हैं. ऐसा दावा किया गया कि गरीब रथ ट्रेन को जल्द सुपरफास्ट ट्रेन में बदल दिया जाएगा. इसके साथ ही अब इसके कोच में भी बदलाव किए जा सकते हैं. गरीबी रथ में पहले जहां 12 कोच (सभी वातानूकूलित) होते थे, वहीं नई ट्रेन में अब 16 कोच होंगे. इसमें जनरल, स्लीपर और एसी कोच भी लगाए जाएंगे. हालांकि, रेल मंत्रालय ने अब इस खबर को खारिज कर दिया है.

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और आरजेडी प्रमुख लालू प्रसाद यादव ने गरीबों को एसी ट्रेन का सफर कराने के मकसद से साल 2006 में गरीब रथ ट्रेनों की शुरुआत की थी. पहली ट्रेन सहरसा-अमृतसर गरीब रथ एक्सप्रेस थी, जो बिहार के सहरसा से पंजाब के अमृतसर के बीच चलाई गई थी. इस ट्रेन में एसी 3 और चेयरकार कोच थे.

ये भी पढ़ें-

कुलभूषण जाधव मामले में जिस सबूत पर पाकिस्तान ICJ में ठोक रहा था ताल, उल्टी पड़ गई वो चाल

इस्तीफा देते हुए इंजमाम ने कहा- हमने वर्ल्ड कप फाइनल की दोनों टीमों को हराया

सोनभद्र: 30 ट्रैक्‍टर में भरकर आए 300 लोग, गांव घेरकर लगा दिया लाशों का अंबार