मूडीज ने GDP ग्रोथ अनुमान घटाया, सुस्त होती भारतीय अर्थव्यवस्था को झटका

एक हफ्ते के अंदर दुनिया की दो बड़ी एजेंसियों ने भारतीय इकॉनमी ग्रोथ रेटिंग का अनुमान घटा दिया.

देश की अर्थव्यवस्था संकट के दौर से गुजर रही है. उधर क्रेडिट रेटिंग एजेंसी मूडीज ने 2019 के लिए भारत के जीडीपी ग्रोथ का आंकड़ा घटा दिया है. मूडीज के मुताबिक भारत की जीडीपी ग्रोथ 6.2 प्रतिशत रहने का अनुमान है.

मूडीज ने इससे पहले भारत की इकॉनमी को 6.8 प्रतिशत की दर से बढ़ने की उम्मीद जताई थी. अब मूडीज ने जीडीपी ग्रोथ के अनुमान को 0.6 प्रतिशत कम कर दिया. साथ ही 2020 के लिए जीडीपी ग्रोथ दर के अनुमान को 7.30 से घटाकर 6.7 प्रतिशत कर दिया. मूडीज की तरफ से जारी बयान में कहा गया कि इकॉनमी में आई सुस्ती से एशियाई निर्यात पर उल्टा असर पड़ा है.

हफ्ते भर में दो एजेंसियों ने अनुमान घटाया

मूडीज से पहले जापान की ब्रोकरेज कंपनी नोमुरा ने भारत की जीडीपी ग्रोथ के अनुमान को घटाया था. नोमुरा के मुताबिक भारत की आर्थिक ग्रोथ इस साल जून तिमाही में 5.7 प्रतिशत रहने का अनुमान है. नोमुरा के मुताबिक उपभोक्ताओं के विश्वास को झटका लगा है और प्रत्यक्ष विदेशी निवेश में गिरावट आई है.

रेटिंग एजेंसियों की रिपोर्ट से भारत सरकार को झटका लगा है. पीएम नरेंद्र मोदी ने देश की इकॉनमी को 5 ट्रिलियन डॉलर के लक्ष्य तक पहुंचाने की बात की थी. सरकार की तरफ से कहा गया था कि ये लक्ष्य 2025 तक हासिल करने के लिए 8 प्रतिशत जीडीपी ग्रोथ जरूरी है. लेकिन रेटिंग एजेंसियों की रिपोर्ट इस उम्मीद पर ग्रहण लगाती दिख रही है.

ये भी पढ़ें:

अर्थव्यवस्था को रफ्तार देने के लिए वित्त मंत्री के कई बड़े ऐलान- सस्ते होंगे होम और ऑटो लोन

NITI आयोग के उपाध्यक्ष राजीव कुमार ने ’70 साल में सबसे बड़ी नकदी समस्या’ वाले बयान पर दी सफाई