सरकार ने दी बिजली-पानी काटने की धमकी तो आधे से ज्‍यादा पूर्व सांसदों ने खाली कर दिए बंगले

19 अगस्‍त को संसदीय पैनल ने चेतावनी दी थी कि अगर तीन दिन के भीतर बंगले खाली नहीं करते तो वहां की बिजली-पानी काट दी जाएगी.

VIP बंगलों का बिजली-पानी काटने की केंद्र सरकार की धमकी काम का गई है. सरकारी आवासों पर कब्‍जा जमाए बैठे आधे से ज्‍यादा पूर्व सांसदों ने बंगले खाली कर दिए हैं. मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, लुटियंस के बंगलों में अब सिर्फ 109 सांसद ऐसे हैं जो तय समयसीमा से ज्‍यादा वक्‍त तक रुके हुए हैं.

अधिकारियों ने कहा कि अधिकतर पूर्व सांसदों ने खुद ही बंगले खाली कर दिए. हालांकि जब हाउस कमेटी ने एक हफ्ते का अल्‍टीमेटम दिया और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नए सांसदों को बंगले मुहैया कराने की प्रक्रिया में तेजी का जिक्र किया तो उसका असर हुआ. अधिकारी मान रहे हैं कि अगले कुछ दिन में 90% से ज्‍यादा बंगले खाली हो सकते हैं.

19 अगस्‍त को संसदीय पैनल ने चेतावनी दी थी कि तय सीमा से ज्‍यादा वक्‍त तक रहने वाले पूर्व सांसद अगर तीन दिन के भीतर बंगले खाली नहीं करते तो वहां की बिजली-पानी काट दी जाएगी. लोकसभा की हाउस कमेटी ने 300 सांसदों को बंगले अलॉट किए हैं.

इन बंगलों को मेंटेनेंस की जरूरत होगी. जब तक यह काम पूरे नहीं हो जाते, तब तक नए सांसदों को ट्रांजिक अकमोडेशन में रहना पड़ेगा. नियमानुसार, पूर्व सांसदों को लोकसभा भंग होने के महीने भर के भीतर आधिकारिक निवास खाली करना होता है.

ये भी पढ़ें

अध्ययन से खुलासा- भारतीय, भूमध्यसागरीय मूल के निवासियों के हैं रूपकुंड झील के नरकंकाल

इंद्राणी मुखर्जी का वो बयान जिसने पी चिदंबरम को कराया अरेस्‍ट, पढ़ें