इस साल पाकिस्तान ने LoC पर 3,186 बार तोड़ा सीजफायर, पिछले 17 सालों में सबसे ज्यादा

शुक्रवार शाम को पाकिस्तान (Pakistan) की तरफ से की गई भारी गोलीबारी (Cross border firing) में LoC के पास रहने वाली एक महिला घायल हो गई. इससे पहले भी उत्तरी कश्मीर के गुरेज सेक्टर में भारी गोलीबारी की गई और सीमा पार से मोर्टार भी दागे गए.

कोरोनावायरस महामारी के बीच भी पाकिस्तान अपनी नापाक हरकतों से बाज नहीं आ रहा और लाइन ऑफ कंट्रोल (LoC) पर लगातार सीजफायर का उल्लंघन करता रहा है.

पिछले आठ महीनों यानी 1 जनवरी से 7 सितंबर तक पाकिस्तान ने LoC के पास जम्मू-कश्मीर में 3,186 बार संघर्ष विराम का उल्लंघन (Ceasefire Violations) किया है. पाकिस्तान की तरफ से ऐसा तब किया जा रहा है जब LAC पर भारत और चीन (India and China) के बीच सीमा विवाद और तनाव का माहौल बना हुआ है.

ये घटनाएं पिछले 17 सालों में सबसे ज्यादा बार हुई हैं. बता दें कि साल 2003 में तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी (Atal Bihari Vajpayee) ने पाकिस्तान के साथ संबंधों को ठीक करने के लिए संघर्ष विराम समझौता किया था.

इस साल हुईं सीजफायर उल्लंघन की घटनाओं में भारतीय सेना के आठ जवान शहीद हो चुके हैं और अन्य दो घायल हुए हैं. इसके आलावा बड़ी संख्या में निर्दोष नागरिक भी मारे गए जिनमें महिलाएं और बच्चे भी शामिल हैं और कई घर और इमारतें नष्ट हो गईं.

पाकिस्तान की हर हरकत का सेना ने दिया माकूल जवाब

सीजफायर उल्लंघन के आलावा जम्मू क्षेत्र में 1 जनवरी से 31 अगस्त तक सीमा पार से गोलीबारी (Cross border firing) की 242 घटनाएं भी हो चुकी हैं. यह बात केंद्र सरकार के राज्यमंत्री श्रीपद नाइक (Shripad Naik) ने राज्य सभा में कही.

उन्होंने यह भी बताया कि इन सभी घटनाओं का भारतीय सेना ने मुहतोड़ जवाब दिया है. इसी के साथ भारत ने पाकिस्तानी अफसरों के सामने चैनलों और उचित माध्यमों के जरिए इन मुद्दों को उठाकर अपना विरोध भी दर्ज कराया है.

लगातार सीमा पार से हो रही गोलीबारी

मालूम हो कि पिछले साल जम्मू कश्मीर (Jammu-Kashmir) से विशेष राज्य का दर्जा वापस लेने और राज्य को दो केंद्र प्रशासित राज्यों में बांट देने पर दोनों देशों के बीच शत्रुता का माहौल बढ़ गया है. शुक्रवार शाम को पाकिस्तान की तरफ से की गई भारी गोलीबारी में LoC के पास रहने वाली एक महिला घायल हो गई. इससे पहले भी उत्तरी कश्मीर के गुरेज सेक्टर में भारी गोलीबारी की गई और सीमा पार से मोर्टार भी दागे गए.

साल 2019 में सीजफायर उल्लंघन की करीब 2,000 घटनाएं दर्ज की गई थीं. इस साल के छह महीनों में यानी जून महीने तक सीजफायर उल्लंघन की कुल 2,432  घटनाएं सामने आई हैं. कोरोना महामारी के चलते बाद के महीनों में इन घटनाओं की संख्या में मामूली कमी आई है.

TV9 भारतवर्ष पोल: क्रिकेट खेला है तभी आप दे पाएंगे IPL से जुड़े इस सवाल का जवाब

Related Posts