MSN ने पेश की सबसे सस्ती कोरोना की दवा, एक गोली की कीमत 33 रुपए

देश में COVID-19 पीड़ितों की संख्या 23,96,638 हो गई है और अबतक 47,033 मौतें हुई हैं. फिलहाल 6,53,622 एक्टिव केस हैं और 16,95,982 लोग रिकवर हो चुके हैं.
antiviral drug Favipiravir, MSN ने पेश की सबसे सस्ती कोरोना की दवा, एक गोली की कीमत 33 रुपए

कोरोना वायरस महामारी (Coronavirus Pandemic)के बीच एक राहत भरी खबर आई है. MSN कंपनी (MSN Laboratories Private Limited) कोरोना के इलाज के लिए एंटीवायरल ड्रग फेविपिराविर (Favipiravir) को फेविलो (Favilow) नाम से पेश किया गया है. ये कोरोना की सबसे सस्ती दवा है जिसकी एक टैबलेट (200 mg) की बाजार में कीमत 33 रुपये है. कुल मिलाकर फेविलो के आने से कोरोना मरीजों के इलाज का खर्चा लगभग आधा हो जाएगा.

इससे पहले जेनबर्कट फार्मास्युटिकल्स ने बाजार में सबसे सस्ते फेविपिरविर टैबलेट फेविवेंट की पेशकश 39 रुपये प्रति टैबलेट (200mg) के की थी. जबकि ग्लेनमार्क फार्मा कंपनी ने फेविपिराविर को फैबिफ्लू (FabiFlu) ब्रांड नाम से पेश किया था. फैबिफ्लू को 103 रुपये प्रति टैबलेट के साथ लॉन्च किया गया था और बाद में इसे 75 रुपये प्रति टैबलेट तक कम कर दिया गया था. वहीं सिप्ला के सिप्लेंजा की कीमत 68 रुपये, हेटेरो लैब्स की फेविविर और ब्रिंटन फार्मा की फेविटन की कीमत 59 रुपये है.

क्या है डोज?

एंटीवायरल ड्रग फेविपिराविर कोरोना के हल्के और कम लक्षण वाले मरीजों के लिए है. पेशेंट्स को पहले दिन इस दवा की 1800 एमजी की दो खुराक दी जाएगी. उसके बाद अगले 14 दिन तक 800 एमजी की रोजाना दो खुराक लेनी होगी. ऐसे मरीज जिन्हें मामूली संक्रमण है लेकिन वो डायबिटीज या दिल की बीमारी से पीड़ित हैं, यह दवा उन्हें भी दी जा सकती है.

हैदराबाद स्थित कंपनी MSN के मुताबिक वह जल्द ही बाजार में फेविपिराविर की 400mg की टैबलेट लॉन्च करने की तैयारी कर रही है.

बता दें देश में कोरोना पीड़ितों की संख्या 23,96,638 हो गई है और अबतक 47,033 मौतें हुई हैं. फिलहाल 6,53,622 एक्टिव केस हैं और 16,95,982 लोग रिकवर हो चुके हैं.

देखिए NewsTop9 टीवी 9 भारतवर्ष पर रोज सुबह शाम 7 बजे

देखिये #अड़ी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर शाम 6 बजे

Related Posts