पैरोल खत्म होने के बाद जेल वापस भेजी गई पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की हत्या की दोषी नलिनी

नलिनी के अलावा, छह अन्य लोग भी राजीव गांधी की हत्या से संबंधित मामले में आजीवन कारावास की सजा काट रहे हैं.

दिवंगत प्रधानमंत्री राजीव गांधी की हत्या के दोषियों में से एक एस नलिनी श्रीहरन की पैरोल रविवार को खत्म हो गई. मद्रास हाई कोर्ट ने उसकी छुट्टी की अवधि बढ़ाने की याचिका खारिज कर दी है. जस्टिस एमएम सुंदरेश और जस्टिस आरएमटी टीका रमन की पीठ ने कहा कि उसने नलिनी को पहले ही एक महीने के लिए साधारण छुट्टी दे दी थी और बाद में इसे तीन सप्ताह के लिए बढ़ा दिया था.

दोषी ने पहले अपनी बेटी की शादी की व्यवस्था करने के लिए 15 अक्टूबर तक के लिए पैरोल की अवधि बढ़ाने की मांग की थी. अगस्त में, मद्रास हाई कोर्ट ने बेटी की शादी की व्यवस्था करने के लिए उसे 30 दिनों की छुट्टी दी थी.

एस नलिनी श्रीहरन को 25 जुलाई को जेल से रिहा किया गया था, तब से वह तमिलनाडु के वेल्लोर के सथुवाचारी में रह रही थीं. नलिनी के अलावा, छह अन्य लोग भी राजीव गांधी की हत्या से संबंधित मामले में आजीवन कारावास की सजा काट रहे हैं. पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी 21 मई, 1991 को तमिलनाडु के कांचीपुरम जिले के श्रीपेरुम्बुदूर इलाके में एक चुनावी रैली में आत्मघाती बम हमले में मारे गए थे.

ये भी पढ़ें: महात्मा गांधी की याद में दिल्ली में “मानस-हरिजन”, मोरारी बापू सुनाएंगे रामकथा