हिंदी साहित्य के आलोचक नामवर सिंह का निधन, दिल्ली के एम्स में ली अंतिम सांस

हिंदी साहित्य के लेखक और आलोचक नामवर सिंह का दिल्ली के एम्स अस्पताल में निधन हो गया है. वो 93 साल के थे. उन्होंने दिल्ली AIIMS के ट्रॉमा सेंटर में 19 फरवरी को रात 11:50 बजे अंतिम सांस ली. नामवर की तबीयत पिछले कुछ दिनों से खराब चल रही थी. उन्हें इलाज के लिए AIIMS […]

हिंदी साहित्य के लेखक और आलोचक नामवर सिंह का दिल्ली के एम्स अस्पताल में निधन हो गया है. वो 93 साल के थे. उन्होंने दिल्ली AIIMS के ट्रॉमा सेंटर में 19 फरवरी को रात 11:50 बजे अंतिम सांस ली. नामवर की तबीयत पिछले कुछ दिनों से खराब चल रही थी. उन्हें इलाज के लिए AIIMS में भर्ती कराया गया था. रिपोर्ट्स के मुताबिक, जनवरी माह में वो अचानक अपने कमरे में गिर गए थे. इसके बाद से उनकी सेहत काफी खराब रहने लगी थी.

वरिष्ठ पत्रकार ओम थानवी ने नामवर सिंह के निधन पर गहरा खेद व्यक्त किया है. उन्होंने नामवर को हिंदी का नायाब आलोचक बताया है. साथ ही ओम ने नामवर को साहित्य में दूसरी परम्परा के अन्वेषी कहा है. ओम ने लिखा, “उन्होंने अच्छा जीवन जिया, बड़ा जीवन पाया.” ओम ने यह भी बताया कि नामवर का अंतिम संस्कार बुधवार को अपराह्न सम्भवतः लोदी दाहगृह में होगा.

नामवर सिंह का जन्म 28 जुलाई 1927 को वाराणसी के जीयनपुर में हुआ था. (जीयनपुर अब चंदौली जिले का हिस्सा है) उन्होंने हिंदी साहित्य में एमए और पीएचडी की डिग्री बीएचयू हासिल की. इसके बाद वो बीएचयू में ही पढ़ाने लगे. बीएचयू के बाद उन्होंने जोधपुर विश्वविद्यालय में अध्यापन कार्य किया. यहां से वो दिल्ली के जेएनयू में पढ़ाने चले गए. नामवर जेएनयू से ही रिटायर हुए.