‘आर्टिकल 370 में संशोधन कर पीएम मोदी ने पूरा किया 27 साल पुराना सपना’

1992 में मुरली मनोहर जोशी ने लाल चौक पर तिरंगा फहराया था तब नरेंद्र मोदी भी उनके साथ थे.

नई दिल्ली: राज्यसभा ने सोमवार को अनुच्छेद 370 की अधिकतर धाराओं को खत्म कर जम्मू कश्मीर एवं लद्दाख को दो केन्द्र शासित क्षेत्र बनाने संबंधी सरकार के दो संकल्पों को मंजूरी दे दी.

सोशल साइट्स पर पीएम मोदी की कई तस्वीरें वायरल हो रही है जिसको लेकर दावा किया जा रहा है कि पीएम मोदी ने 27 साल पहले यह सपना देखा था और आज आख़िरकार पूरा कर ही लिया.

प्रीती गांधी ने अपने ट्विटर अकाउंट पर लिखा, ‘मुंबई के बीजेपी प्रवक्ता जो मेरे बहुत अच्छे दोस्त हैं साल 1992 में पीएम मोदी के साथ थे जब उन्होंने लाल चौक पर तिरंगा फ़हराया. शाम को मैनें आर्टिकल 370 में संशोधन को लेकर उन्हें बधाई देने के लिए फोन किया था तो उनका जवाब था ‘मिशन पूरा हुआ.’

इसके अलावा फ़ैसले के बाद से ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का एक पुराना वीडियो खूब देखा जा रहा है, जिसमें वो बीजेपी के वरिष्ठ नेता मुरली मनोहर जोशी के साथ लाल चौक पर तिरंगा फहराते नज़र आ रहे हैं. इस मौक़े पर उन्होंने भाषण भी दिया है जो वीडियो में देखा जा सकता है.

मोदी ने कहा, ‘मुझे याद है मैं 1992 में लाल चौक पर तिरंगा झंडा फहराने के लिए कश्मीर गया था. उस समय आतंकवाद पूरे जोर पर था. आतंकवादी हिंदुस्तान के तिरंगे को जमीन पर रौंदते थे, उसको जलाते थे ,उसको अपमानित करते थे. तिरंगे झंडे से अपनी कार साफ कर रहे हैं ,अपने जूते साफ कर रहे हैं और कैमरे के सामने सब करते थे और ये दृश्य मेरे दिल में आग पैदा करते थे. हमने कन्याकुमारी से लेकर कश्मीर तक यात्रा निकाली थी कि और तय किया था कि हम 26 जनवरी को श्रीनगर के लाल चौक पर तिरंगा झंडा फहराएंगे. जब आतंकवादियों को इसका पता लगा तो उन्होंने श्रीनगर में जगह-जगह बड़े-2 पोस्टर चिपका दिए जिन पर कि लिखा था कि किसने अपनी मां का दूध पिया है जो कि 26 जनवरी को 11 बजे श्रीनगर के लाल चौक पर आकर के तिरंगा झंडा फहरा कर जिन्दा वापिस जाए.’

एक अन्य वीडियो में वो कह रहे हैं, ‘मैंने अपनी हैदराबाद की सभा में कहा था कि मैं 26 जनवरी को सुबह ठीक 11 बजे श्रीनगर के लाल चौक पर पहुंचूंगा. मैं बुलेटप्रूफ जैकेट पहनकर के नहीं आऊंगा. मैं बुलेटप्रूफ गाड़ी में नहीं आऊंगा. मेरे हाथ में और सीने पर सिर्फ तिरंगा झंडा होगा. फैसला 26 जनवरी को लाल चौक पर ही होगा कि किसने अपनी मां का दूध पिया है. मैं समय पर गया और तिरंगा झंडा फहराया.’

बता दें कि कश्मीर को विशेष राज्य दर्जा खत्म कर उसे बाकी राज्यों की तरह भारत का हिस्सा बनाए जाने की मांग करते हुए 28 साल पहले श्रीनगर के लाल चौक पर तिरंगा फहराया गया था. उस समय मुरली मनोहर जोशी बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष थे और नरेंद्र मोदी की अगुवाई में यह यात्रा 11 दिसंबर 1991 में शुरू हुई.

1992 में मुरली मनोहर जोशी ने लाल चौक पर तिरंगा फहराया था तब नरेंद्र मोदी भी उनके साथ थे.

और पढ़ें- आर्टिकल 370 में संशोधन पर राहुल, प्रियंका की चुप्‍पी के पीछे है ये वजह!