मोदी जी ने गरीबों की जेब से पैसा निकाल कर अमीरों की झोली में डाल दिया: राहुल गांधी

खराब स्वास्थ्य के चलते आगामी विधानसभा चुनावों के मद्देनजर कांग्रेस पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी एकलौती जनसभा में शामिल नहीं हो सकीं. उनकी जगह पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी चुनावी सभा को संबोधित करने पहुंचे.

खराब स्वास्थ्य के चलते आगामी विधानसभा चुनावों के मद्देनजर कांग्रेस पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी एकलौती जनसभा में शामिल नहीं हो सकीं. उनकी जगह पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी चुनावी सभा को संबोधित करने पहुंचे. उन्होंने कहा कि सोनिया जी को आना था उनको वायरल हो गया तो उन्होंने मुझसे कहा कि मैं आपसे मिलूं और बातचीत करूं इसलिए मैं आ गया.

राहुल गांधी ने कहा कि आपने कहा कि मुझे आखिरी मिनट में बुलाया तो मैं आ गया, अगर आप मुझे आखिरी सेकंड में भी बुलाएंगे तो मैं आ जाऊंगा. इस जनसभा में राहुल गांधी ने रोजगार के मुद्दे पर बीजेपी को घेरा. उन्होंने कहा कि 40 साल में बेरोजगारी की दर सबसे ज्यादा है. किसी युवा से पूछो की आप क्या करते हो तो वो कहेगा कुछ नही करता.

जीएसटी पर हमला बोलते हुए राहुल गांधी ने कहा कि गब्बर सिंह टैक्स ने सब उद्योगों को बर्बाद कर दिया है. मोदी हिंदुस्तान के उद्योगपतियों के लिए काम करते हैं और पूरे देश से पैसा इकट्ठा करके 15-20 उद्योगपति को दे देते हैं. इसी के साथ उन्होंने बीजेपी से किसानों की कर्जमाफी पर भी सवाल किया. उन्होंने कहा, हरियाणा में किसानों का कर्जा माफ हुआ? राजस्थान, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ में हमने किया.”

मौजूदा आर्थिक मंदी के लिए राहुल गांधी ने पीएम मोदी को जिम्मेदार ठहराया

मौजूदा अर्थव्यवस्था को लेकर बीजेपी को घेरते हुए राहुल गांधी ने कहा कि 2004 से 2014 तक यूपीए सरकार ने हिंदुस्तान की अर्थव्यवस्था को मजबूत किया था. ओबामा कहते थे कि हिंदुस्तान अमेरिका से मुकाबला कर रहा है. आज हिंदुस्तान का पूरी दुनिया में मजाक उड़ाया जा रहा है. एक जात दूसरी जात से लड़ रही है हिंदुस्तान को आगे बढ़ाने के लिए आपको गरीबों की जेब में पैसा डालना पड़ेगा.

पीएम मोदी पर हमलावर होते हुए कांग्रेस पार्टी के पूर्व अध्यक्ष ने कहा कि मोदी को इकोनॉमिक्स की कोई समझ नही है. 2014 के बाद बाहर से कुछ अर्थशास्त्री आए, उन्होंने कहा कि हम स्टडी करने आए थे कि 2004 से 2014 तक अर्थव्यवस्था कैसे बढ़ी तो उन्होंने कहा कि मनरेगा और किसान कर्ज माफी से बढ़ी. जब मनरेगा के जरिए मजदूरों और कर्जा माफी से पैसा लोगों के एकाउंट में गया उन्होंने सामान खरीदना शुरू किया.

आर्थिक मंदी के लिए पीएम मोदी को जिम्मेदार ठहराते हुए उन्होंने कहा कि मोदी जी ने इनका पैसा जेब से निकाल लिया. नोटबंदी में महिलाओं को जिनको हम 33 प्रतिशत आरक्षण देने जा रहे हैं, उनका पैसा ले लिया. आपका पैसा मोदी जी उन्ही 15 उद्योगपतियों को देते जा रहे हैं. अभी तो शुरुआत हुई है आप अर्थव्यवस्था और बेरोजगारी का देखना क्या हाल होगा आने वाले 6 महीनों में, हरियाणा में आपके पास मौका है.

ये भी पढ़ें: औरंगजेब पर लट्टू हुए इमरान, कहा- जब मरा तो दुनिया की एक-चौथाई थी हिंदुस्‍तान की GDP