NASA ने खोज निकाला चंद्रयान-2 का लैंडर ‘विक्रम’, देखिए सबसे पहली तस्‍वीर

चांद की सतह पर जिस जगह चंद्रयान-2 का लैंडर 'विक्रम' टकराया था, वहां की तस्‍वीरें जारी की गई हैं.

अमेरिकी स्‍पेस एजेंसी NASA ने चंद्रयान-2 के लैंडर ‘विक्रम’ को खोज लिया है. चांद की सतह पर जिस जगह लैंडर टकराया था, वहां की तस्‍वीरें जारी की गई हैं. यहीं पर सॉफ्ट लैंडिंग से पहले, स्‍पेसक्राफ्ट से ISRO का संपर्क टूट गया था.

लूनर रीकनाएंसांस ऑर्बिटर (LRO) कैमरा के जरिए इम्‍पैक्‍ट साइट की तस्‍वीरें ली गईं. टकराने से पहले और बाद की तस्‍वीरें जारी की गई हैं.

NASA finds Chandrayaan-2 Lander Vikram, NASA ने खोज निकाला चंद्रयान-2 का लैंडर ‘विक्रम’, देखिए सबसे पहली तस्‍वीर

इनमें दिख रहा है कि लैंडर ने हार्ड लैंडिंग की थी. क्रैश से जो मलबा फैला उसे हरे डॉट्स के जरिए दिखाया गया है. नीले रंग में लैंडर का इम्‍पैक्‍ट स्‍पॉट है. NASA ने अपने बयान में कहा है कि फोटो में जो S है, वो वह मलबा है जो शानमुगा सुब्रमण्‍यन ने खोजा है. यह सुब्रमण्‍यन कौन हैं, इसके बारे में NASA ने कुछ नहीं बताया है. शानगुमा ने जो मलबा सबसे पहले खोजा, वो मेन क्रैश साइट से करीब 750 मीटर नॉर्थवेस्‍ट में है.

एजेंसी के मुताबिक, 26 सितंबर को जारी पहले मोजैक (17 सितंबर को लिया गया) में ‘विक्रम’ का इम्‍पैक्‍ट प्‍वॉइंट साफ नहीं था. 14 और 16 अक्‍टूबर को और तस्‍वीरें जारी की गईं. 11 नवंबर को आई तस्‍वीर को बाकी तस्‍वीरों से मिलाया गया और इम्‍पैक्‍ट साइट का पता चल गया.

लैंडिंग के पहले और बाद की तस्‍वीर.

ISRO ने 22 जुलाई को चंद्रयान-2 अंतरिक्ष में लॉन्‍च किया था. इसे जियोसिंक्रोनस सैटेलाइट लांच व्हिकल-MARK 3 के जरिए छोड़ा गया. चंद्रयान-2 में तीन हिस्से थे -ऑर्बिटर (2,379 किलोग्राम, आठ पेलोड), विक्रम (1,471 किलोग्रमा, चार पेलोड), और प्रज्ञान (27 किलोग्राम, दो पेलोड). चंद्रयान-2 की लागत 978 करोड़ रुपये है.

ये भी पढ़ें

चांद पर कदम रखने वाली पहली महिला पहनेगी ये स्‍पेससूट, देखें NASA ने कैसे बनाया

NASA का दावा- मंगल और चंद्रमा पर भविष्य में उगाई जा सकेगी फसल