नासा ने तीन मिशन के लिए चुने 13 अंतरिक्ष यात्री, भारतीय मूल के राजा चारी भी शामिल

राजा चारी भारतीय मूल के तीसरे व्यक्ति हैं जिन्हें अमेरिकी स्पेस मिशन के लिए चुना गया. उनसे पहले कल्पना चावला और सुनीता विलियम्स नासा के मिशन में शामिल हो चुकी हैं.

नासा ने तीन स्पेस मिशन के लिए भारतमूल के अमेरिकी एस्ट्रोनॉट्स राजा जॉन वुरपुत्तूर चारी का चयन किया है. स्पेस एजेंसी ने शुक्रवार को चारी समेत 11 नए एस्ट्रोनॉट्स (अंतरिक्ष यात्री) के नामों की घोषणा की.

इसमें सात पुरुष और छह महिला अंतरिक्ष यात्री हैं. इस टीम में शामिल महिलाएं आर्टेमिश मिशन के तहत 2024 में चांद पर कदम रखेंगी जबकि 2030 में मंगल ग्रह पर इन्हीं अंतरिक्ष यात्रियों में से कोई पहली बार कदम रखेगा.

18 हजार आवेदकों में से चयन

नासा के अपने ‘आर्टेमिस’ कार्यक्रम की घोषणा करने के बाद 2017 में इन सफल अंतरिक्षयात्रियों को 18,000 आवेदकों के बीच से चयनित किया गया था. 2017 एस्‍ट्रोनॉट उम्‍मीदवार क्‍लास के लिए 41 वर्षीय चारी का चुनाव नासा ने 2017 में किया था.

2017 के अगस्‍त में उन्‍होंने ड्यूटी के लिए रिपोर्ट किया और मिशन असाइनमेंट के लिए आरंभिक एस्‍ट्रोनॉट कैंडिडेट की ट्रेनिंग को पूरा कर लिया है. शुक्रवार को एक समारोह में प्रत्‍येक नए एस्‍ट्रोनॉट को सिल्‍वर पिन दिया गया. यह एक परंपरा है जो काफी पहले वर्ष 1959 में Mercury 7 के लिए एस्‍ट्रोनॉट के चुनाव के समय से चली आ रही है.

राजा चारी भारतीय मूल के तीसरे व्यक्ति हैं जिन्हें अमेरिकी स्पेस मिशन के लिए चुना गया. उनसे पहले कल्पना चावला और सुनीता विलियम्स नासा के मिशन में शामिल हो चुकी हैं.

हैदराबाद के रहने वाले थे राजा चारी के पिता

चारी के पिता श्रीनिवास चारी हैदराबाद से अमेरिका इंजीनियरिंग की डिग्री के लिए आए थे. अपने पिता से प्रेरित चारी ने हाल ही में बताया था,”मेरे पिता शिक्षा हासिल करने के लिए यहां आए थे और उसे महत्व दिए जाने का मेरे लालन पालन पर भी प्रभाव पड़ा.”

अंतरिक्ष वैज्ञानिक राजा चारी के पिता श्रीनिवास चारी हैदराबाद के रहने वाले थे. ओसमानिया यूनिवर्सिटी से इंजीनियरिंग की पढ़ाई के बाद वे 1970 के दशक में अमेरिका चले गए थे. मास्टर्स की पढ़ाई पूरी करने के बाद पेगी चारी से शादी की और 25 जून 1977 को राजा चारी का जन्म हुआ. 67 साल की उम्र में 2010 में श्रीनिवास चारी का निधन हो गया था.

नेवी पायलट स्कूल से प्रशिक्षण ले चुके

राजा चारी ने यूएस एयरफोर्स एकेडमी से एस्ट्रोनॉटिकल इंजीनियरिंग में स्नातक किया. इसके बाद मैसाच्युसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी से एयरोनॉटिक्स एंड एस्ट्रोनॉटिक्स में मास्टर्स किया. वह नेवी पायलट स्कूल से प्रशिक्षण ले चुके हैं. नासा में शामिल होने से पहले अमेरिकी एयरफोर्स में लेफ्टिनेंट कर्नल थे और 461 फलाइट टेस्ट स्कवार्डन के कमांडर जबकि एफ-35 इंटीग्रेटेड टेस्ट फोर्स के निदेशक भी रह चुके हैं.

ये भी पढ़ें-