कोरोना के लिए कितनी तैयार है दिल्ली? कहीं कम तो नहीं पड़ जाएंगे डॉक्टर!

Delhi में फिलहाल 70,000 डॉक्टर रजिस्टर्ड हैं. इनमें से कई ऐसे भी हैं जो काफी एक्टिव हैं, तो कुछ ऐसे हैं जो उम्र के उस पड़ाव पर हैं जहां वो मरीजों को प्रतिदिन नहीं देख पा रहे हैं.
delhi preparation for corona, कोरोना के लिए कितनी तैयार है दिल्ली? कहीं कम तो नहीं पड़ जाएंगे डॉक्टर!

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने आने वाले दिनों में दिल्ली में कोरोना (Coronavirus) के बढ़ते संक्रमण के बारे में बताया. उन्होंने कहा कि जुलाई के अंत तक 5.5 लाख कोरोना संक्रमित मरीज दिल्ली में हो सकते हैं. ऐसे में बड़ा सवाल यह है कि इतनी बड़ी संख्या में मरीजों की देखभाल कैसे होगी और क्या दिल्ली का हेल्थ इन्फ्रास्ट्रक्चर इसके लिए तैयार है?

इंडियन मेडिकल रिसर्च (Indian Medical Research) के हॉस्पिटल केयर के संयुक्त सचिव डॉ अनिल गोयल ने टीवी 9 भारतवर्ष से बातचीत में बताया कि इतनी बड़ी संख्या में मरीजों को फिजीकली हैंडल करना डॉक्टरों के लिए मुश्किल होगा. ऐसे में जरुरी है कि वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से भी हेल्थ केयर वर्कर की उपस्थिती में मरीजों का ट्रीटमेंट किया जाए.

देखिए NewsTop9 टीवी 9 भारतवर्ष पर रोज सुबह शाम 7 बजे

क्या है डॉक्टरों की स्थिति

दिल्ली मेडिकल कांउसिल के अध्यक्ष डॉ गिरीश त्यागी ने बताया कि दिल्ली में फिलहाल 70,000 डॉक्टर रजिस्टर्ड हैं. इनमें से कई ऐसे भी हैं जो काफी एक्टिव हैं, तो कुछ ऐसे हैं जो उम्र के उस पड़ाव पर हैं जहां वो मरीजों को प्रतिदिन नहीं देख पा रहे हैं. जहां तक नर्सों की बात करें तो फिलहाल 1.5 लाख नर्स हैं.

कैसे पूरा करेंगे डॉक्टरों की कमी

डॉ मोहसीन वली ने बताया कि अमूमन दिल्ली में एक दिन में प्राइवेट डॉक्टर 25 से लेकर 50 मरीजों को देखते हैं. इसके विपरीत सरकारी अस्पताल में डॉक्टर ओपीडी में 50 से 100 मरीज तक देखते हैं. इस हिसाब से डॉक्टरों की संख्या कम पड़ सकती है.

वीडियो कान्फ्रेंसिं हो सकता है माध्यम

डॉ अनिल गोयल ने बताया कि महामारी के समय में यह जरूरी नहीं है कि डॉक्टर सभी मरीजों को फिजीकली ट्रीट करें. ऐसे समय में ट्रेंड हेल्थ केयर वर्कर के साथ वीडियो कान्फ्रेंसिंग भी एक सफल माध्यम हो सकता है. ऐसे में वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से मेक-शिफ्ट अस्पताल में कई मरीजों का एक साथ इलाज किया जा सकता है.

कितने लोगो ने रजिस्ट्रेशन कराया

दिल्ली में अगल-अलग संस्थानों के लोगों ने कोविड वारियर के तौर पर प्रत्यक्ष अथवा परोक्ष रूप से 196722 लोगों ने रजिस्ट्रेशन कराया है. मौजूदा समय में दिल्ली में 17996 एमबीबीएस डॉक्टर हैं जबकि 2530 एमबीबीएस स्टूडेंट्स हैं. दिल्ली में 43,865 नर्स हैं जबकि 12,011 डेंटिस्ट हैं. फिलहाल 27,302 फार्मासिस्ट हैं. जबकि आयुष के 11,213 लोगों ने खुद को रजिस्टर कराया है. दिल्ली में 5809 एक्स सर्विंसमैन ने कोविड वारियर के तौर पर रजिस्टर कराया है. राष्ट्रीय सेवा योजना के 17628 और एनसीसी के 1264 ने रजिस्टर कराया है. प्रधान मंत्री कौशल विकास योजना, के तहत 4478 ने कोविड रजिस्टर कराया है. 812 सायको सोशल केयर के लोग हैं. कुल 5817 आशा वर्कर और 20518 आंगनवाड़ी के सदस्य हैं. 2076 पोस्टमैन और ग्रामीण डाकसेवक हैं. दिल्ली में 57394 सिविल डिफेंस के लोग और 108694 होमगार्ड के जवान हैं. दिल्ली में 7095 रजिस्टर एनजीओ है जिनका सहारा लिया जा सकता है.

देखिये #अड़ी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर शाम 6 बजे

Related Posts