अलकायदा मॉड्यूल का भंडाफोड़, एनआईए की छापेमारी में केरल-पश्चिम बंगाल से 9 आतंकी गिरफ्तार

आतंकवाद-रोधी जांच एजेंसी के अधिकारियों के अनुसार, पश्चिम बंगाल के मुर्शिदाबाद और केरल के एर्नाकुलम में कुछ आतंकवादियों की मौजूदगी के बारे में खुफिया सूचना के आधार पर छापेमारी की गई और इन आतंकवादियों को गिरफ्तार किया गया.

  • TV9 Digital
  • Publish Date - 9:53 am, Sat, 19 September 20

राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) ने शनिवार सुबह छापेमारी की और प्रतिबंधित आतंकवादी संगठन अलकायदा (Al Qaeda) के 9 आतंकवादियों (Terrorists) को गिरफ्तार किया है. आतंकवाद-रोधी जांच एजेंसी के अधिकारियों के अनुसार, पश्चिम बंगाल (West Bengal) के मुर्शिदाबाद और केरल (Kerala) के एर्नाकुलम में कुछ आतंकवादियों की मौजूदगी के बारे में खुफिया सूचना के आधार पर छापेमारी की गई और इन आतंकवादियों को गिरफ्तार किया गया.

छापेमारी में एनआईए ने पश्चिम बंगाल से 6 और केरल से 3 आतंकियों को गिरफ्तार किया है. आतंकियों के कब्जे से डिजिटल उपकरण, दस्तावेज, जिहादी साहित्य, धारदार हथियार, देसी हथियार, घर में विस्फोटक उपकरण बनाने से जुड़े कागजात समेत भारी मात्रा में आपत्तिजनक सामग्री बरामद हुई है.

‘पाक आतंकियों ने ली सोशल मीडिया की मदद’

एनआईए को शुरुआती जांच में पता चला है कि इन लोगों को सोशल मीडिया पर पाकिस्तान स्थित अल-कायदा आतंकवादियों द्वारा कट्टरपंथी बनाया गया था. साथ ही राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र सहित कई स्थानों पर हमले करने के लिए प्रेरित किया गया था. इस उद्देश्य के लिए मॉड्यूल सक्रिय रूप से धन जुटाने का काम कर रहा था. साथ ही हथियार और गोलाबारूद खरीदने के लिए गैंग के कुछ सदस्य दिल्ली जाने की तैयारी में थे.

एनआईए के प्रवक्ता ने कहा, “समूह भारत में महत्वपूर्ण प्रतिष्ठानों पर आतंकवादी हमले करने की योजना बना रहा था, जिसका मकसद निर्दोष लोगों की जान लेना था. एनआईए ने इसे लेकर 11 सिंतबर को एक मामला दर्ज किया था.”

पकड़े गए 9 आतंकियों के नाम

गिरफ्तार आतंकवादियों की पहचान मुर्शीद हसन, इयाकुब बिश्वास और मोसरफ हुसेन के रूप में की गई है. ये तीनों एर्नाकुलम के रहने वाले हैं. नजमुस साकिब, अबू सुफियान, मैनुल मोंडल, लेउ यीन अहमद, अल मामुन कमाल और अतीतुर रहमान, ये सभी मुर्शिदाबाद के रहने वाले हैं.

अधिकारी ने कहा कि उन्हें पुलिस हिरासत और आगे की जांच के लिए केरल और पश्चिम बंगाल में संबंधित न्यायालयों के समक्ष पेश किया जाएगा.