अजित पवार होंगे महाराष्ट्र के उप मुख्यमंत्री, शिवसेना को दिए जाएंगे 14 मंत्रिपद- सूत्र

महाराष्ट्र में सरकार गठन के बाद से ही राजनीतिक हलके में इस बात की चर्चा थी कि अजित पवार उप मुख्यमंत्री पद के लिए अड़े हुए हैं.

एनसीपी नेता अजित पवार महाराष्ट्र के उप मुख्यमंत्री होंगे. सूत्रों के हवाले से यह खबर सामने आई है. महाराष्ट्र की महा विकास आघाडी सरकार का फॉर्मूला तय हो गया है. सूत्रों का कहना है कि शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस में इस बात पर सहमति बन गई है कि उप मुख्यमंत्री पद अजित पवार को दिया जाएगा.

महाराष्ट्र में सरकार गठन के बाद से ही राजनीतिक हलके में इस बात की चर्चा थी कि अजित पवार उप मुख्यमंत्री पद के लिए अड़े हुए हैं. वहीं, कई एनसीपी कार्यकर्ता इसके खिलाफ बताए जा रहे थे. साथ ही अजित पवार को पार्टी से निकालने की मांग भी उठी थी.

दरअसल, कुछ दिनों पहले महाराष्ट्र में तेजी से बदलते घटनाक्रम के बीच अजित पवार ने एनसीपी से बगावत कर दी थी. अजित ने बीजेपी के साथ मिलकर राज्य में सरकार गठन कर लिया था. साथ बीजेपी नेता देवेंद्र फडणवीस ने मुख्यमंत्री और अजित पवार ने उप मुख्यमंत्री पद की शपथ भी ले ली थी. लेकिन यह सरकार कुछ ही समय में गिर गई.

बताया जा रहा है कि शिवसेना के पास मुख्यमंत्री समेत 14 मंत्रिपद होंगे. वहीं, एनसीपी को उपमुख्यमंत्री पद समेत 16 मंत्रिपद दिए जाएंगे. इसके अलावा कांग्रेस के पास स्पीकर और 13 मंत्रिपद होंगे.15 दिसंबर से पहले मंत्रिमंडल का विस्तार हो सकता है.

गौरतलब है कि महाराष्ट्र में सत्तारूढ़ शिवसेना ने बीजेपी के सामने न झुकने पर बुधवार को एनसीपी अध्यक्ष शरद पवार की सराहना की. पार्टी का कहना है कि पवार भाजपा के सामने नहीं झुके, जिसके बाद शिवसेना के नेतृत्व में महाराष्ट्र में महा विकास अघाड़ी की सरकार बनी.

शिवसेना सांसद संजय राउत ने कहा कि ‘यह स्पष्ट है कि भाजपा ने पार्टी (शिवसेना) की पीठ पर वार करने के लिए पवार के साथ मिलकर साजिश रचने की कोशिश की. मगर भाजपा की साम, दाम, दंड, भेद की नीति बुरी तरह विफल रही और राकांपा प्रमुख बिल्कुल नहीं झुके.

राउत ने कहा कि पवार ने राकांपा को लुभाने और शिवसेना को सत्ता से बाहर रखने के लिए भाजपा द्वारा दिए गए प्रस्ताव को खुद स्पष्ट किया है.

ये भी पढ़ें-

चिदंबरम के जेल से बाहर आते समय भीड़ में घुस गए कई पॉकेटमार, चुराए दर्जन भर मोबाइल फोन

सैलरी और सामाजिक दायित्वों को पूरा करने में खर्च हो रहा रेलवे का बड़ा फंड: पीयूष गोयल

106 दिन बाद तिहाड़ से बाहर आते ही चिदंबरम ने कही ये बात