शिवसेना NDA में नहीं आती तो NCP को शामिल हो जाना चाहिए: अठावले

अठावले ने कहा कि गठबंधन में वापस आने के बाद 50-50 की भागीदारी में सरकार बनानी चाहिए. उद्धव ठाकरे को एक साल तक मुख्यमंत्री रहना चाहिए और उसके बाद आने वाले तीन सालों तक मुख्यमंत्री की कुर्सी BJP को दे देनी चाहिए.

  • TV9 Hindi
  • Publish Date - 10:14 pm, Mon, 28 September 20
रामदास अठावले- बीजेपी की सहयोगी आरपीआई के अध्यक्ष अठावले पिछली सरकार में सामाजिक न्याय और अधिकारिता राज्य मंत्री थे.

महाराष्ट्र (Maharashtra) में सियासी अटकलों के बीच रिबल्किन पार्टी ऑफ इंडिया (RPI) के अध्यक्ष और केंद्रीय मंत्री रामदार अठावले (Ramdas Athawle) ने अपनी प्रतिक्रिया दी है. रामदास अठावले का कहना है कि बीजेपी के साथ शिवसेना को वापस NDA में शामिल होना चाहिए और मिलकर सरकार बनानी चाहिए, क्योंकि दोनों दलों की विचारधारा एक है.

अठावले ने कहा कि गठबंधन में वापस आने के बाद 50-50 की भागीदारी में सरकार बनानी चाहिए. उद्धव ठाकरे को एक साल तक मुख्यमंत्री रहना चाहिए और उसके बाद आने वाले तीन सालों तक मुख्यमंत्री की कुर्सी बीजेपी को दे देनी चाहिए. अठावले ने ये भी कहा कि अगर शिवसेना गठबंधन में नहीं आती तो NCP को बीजेपी के साथ आना चाहिए.

यह भी पढ़ें- कृषि कानूनों पर विरोध के बीच सरकार का फैसला- दो दिन पहले शुरू होगी फसलों की खरीद

केंद्रीय मंत्री अठावले ने कहा कि ये लोग कह रहे हैं कि महाराष्ट्र में सरकार 5 साल तक चलेगी, लेकिन हमें नहीं लगता. ये सरकार 1 डेढ़ साल के लिए बनी है. कांग्रेस ने अपने पैर पर पत्थर मारा है.

सुशांत ने नहीं की आत्महत्या

सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले पर बोलते हुए उन्होंने कहा कि सुशांत मामले की जांच CBI के हाथ में है. मेरा शक है कि सुशांत सिंह राजपूत आत्महत्या नहीं कर सकता. NCB की जांच में अभी सिर्फ अभिनेत्रियों के नाम आ रहे हैं, अभिनेताओं का नाम भी सामने आना चाहिए.

यह भी पढ़ें- हनीट्रैप में फंसे वैज्ञानिक का अपहरण, पुलिस ने होटल से किया रेस्क्यू, 3 गिरफ्तार

रामदास अठावले ने कहा कि ड्राग्स मामले में नाम आने वाले एक्टर्स को फिल्मों में काम नहीं देना चाहिए. उन्होंने कहा, ”करण जौहर कह रहे हैं कि पार्टी में ड्रग्स नहीं था, लेकिन मुझे लगता है कि ड्रग्स था या नहीं इसकी जांच होनी चाहिए.

मेरी मांग है कि जिन लोगों के ड्रग्स मामले में नाम आए हैं उन अभिनेत्री-अभिनेताओं को निर्माताओं को फिल्म में नहीं लेना चाहिए. इससे आने वाली नस्ल को भी सबक मिलेगा.”