देश में बीते साल हर दिन 87 रेप केस, NCRB ने बताया- महिलाओं और बच्चों के खिलाफ अपराध बढ़े

एनसीआरबी (NCRB) की 2019 की रिपोर्ट के अनुसार भारत में महिलाओं के खिलाफ अपराध पिछले साल से 7.3 प्रतिशत बढ़ गए हैं. 2018 में प्रति लाख महिला जनसंख्या में अपराध दर 58.8 प्रतिशत था जो कि 2019 में बढ़कर 62.4 प्रतिशत हो गया.

  • TV9 Digital
  • Publish Date - 10:05 am, Wed, 30 September 20

देश में 2019 में हर दिन औसतन 87 रेप के मामले दर्ज हुए और साल भर के दौरान महिलाओं के खिलाफ 4,05,861 मामले दर्ज किए गए जो कि 2018 की तुलना में 7 प्रतिशत से अधिक की बढ़ोत्तरी है. नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो (NCRB) ने ताजा आंकड़े जारी किए हैं. 2019 की रिपोर्ट के अनुसार भारत में महिलाओं के खिलाफ अपराध पिछले साल से 7.3 प्रतिशत बढ़ गए हैं. 2018 में प्रति लाख महिला जनसंख्या में अपराध दर 58.8 प्रतिशत था जो कि 2019 में बढ़कर 62.4 प्रतिशत हो गया है.

रिपोर्ट में कहा गया है कि देश में 2018 में महिलाओं के खिलाफ 3,78,236 अपराधिक मामले दर्ज किए गए हैं. 2018 में 33,356 रेप के मामले दर्ज किए गए थे. भारतीय दंड संहिता के तहत महिलाओं पर होने वाले हमलों में अधिकांश मामलों में पति या उसके रिश्तेदारों द्वारा क्रूरता के 30.9 प्रतिशत मामले दर्ज किए गए हैं. एनसीआरबी के 2019 के डेटा के अनुसार 17.9 प्रतिशत मामलों में महिलाओं के अपहरण का मामला सामने आया है.

ये भी पढ़ें- हाथरस गैंगरेप: परिवार की नहीं सुनी, पुलिस ने देर रात किया पीड़िता का अंतिम संस्कार

बच्चों के खिलाफ अपराधिक मामले भी बढ़े

केवल महिलाएं ही नहीं, एनसीआरबी के आंकड़ों से यह पता चला है कि बच्चों के खिलाफ अपराधों से जुड़े मामलों में बढ़ोत्तरी हुई है. 2018 से 2019 में बच्चों के खिलाफ अपराधों में 4.5 प्रतिशत की बढ़ोत्तरी हुई है. 2019 में बच्चों के खिलाफ अपराध के कुल 1.48 लाख मामले दर्ज किए गए, जिनमें से 46.6 प्रतिशत अपहरण के मामले थे और 35.3 प्रतिशत मामले यौन अपराधों से संबंधित थे.

NCRB ने कैसे बनाई रिपोर्ट

एनसीआरबी केंद्रीय गृह मंत्रालय के तहत कार्य करता है. एजेंसी को देशभर से अपराध डेटा एकत्र करने और उसका विश्लेषण करने का काम सौंपा जाता है. एजेंसी ने 36 राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों और 53 महानगरों के आंकड़ों का एनालिसिस करने के बाद तीन खंड की रिपोर्ट तैयार की है.