NEET 2020 Topper: शोएब आफताब ने रचा इतिहास, टॉप आने का पूरा क्रेडिट दिया मां को

भविष्य को देखते हुए शोएब काफी खुश हैं और अपनी सफलता के श्रेय वो अपनी मां को देते हैं जो हर मुश्किल समय में उनके साथ खड़ी रहीं. वो अब नई दिल्ली स्थित AIIMS में एडमिशन लेना चाहते हैं.

  • TV9 Hindi
  • Publish Date - 9:40 pm, Fri, 16 October 20

शोएब आफताब ने NEET 2020 टॉप किया है और इसी के साथ इतिहास भी रच दिया है. शोएब ने 720 में से पूरे 720 नंबर हासिल किए हैं. इसके अलावा वो उनके राज्य ओडिसा से टॉप करने वाले भी पहले छात्र बने हैं. शुक्रवार को NTA ने NEET 2020 के रिजल्ट घोषित किए और स्कोर कार्ड भी जारी किए. टाइम्स नाउ के मुताबिक शोएब एक व्यापारी के बेटे हैं और अब मेडिकल कॉलेज में दाखिला लेने के बाद वो परिवार में ऐसा करने वाले पहले शख्स होंगे.

शोएब का कहना है कि वो पढ़ाई में अच्छे तो थे, लेकिन बहुत ज्यादा अच्छे नहीं. उन्होंने बताया कि जब वो आठवीं क्लास में थे तब उनके पिता की आर्थिक हालत काफी खराब हो गई थी. तब उनके पिता ने व्यापार बदला, लेकिन उस समय शोएब को नहीं लगता था कि उनका परिवार कोटा में उनकी पढ़ाई का खर्च उठा सकेगा.

शोएब का कहना है, “मेरे पिता का कंस्ट्रक्शन का काम चल गया और इसके चलते मैंने कोटा के एलन क्लासेज में एडमिशन ले लिया. मेरे साथ मेरी मां और छोटी बहन भी ओडिसा से कोटा आ गईं ताकि मुझे मेरे सपनों को हासिल करने में मदद कर सकें और मैं पढ़ाई पर ध्यान रख सकूं.”

अब चाहते हैं AIIMS मे एडमिशन

हालांकि शुरुआत में वैसा बिलकुल भी नहीं हुआ जैसा शोएब ने सोचा था. उन्होंने बताया, 11वीं क्लास में मेरे नंबर ठीक ठाक थे, लेकिन मेरी सोच से काफी कम थे और न ही मैं जरूरत के मुताबिक पढ़ाई को समय दे पा रहा था. लेकिन उन्होंने इसके बाद सुधार किया और स्कॉलरशिप भी प्राप्त की. शोएब ने स्कूल और सेल्फ स्टडी को अच्छे से मैनेज किया जिसका नतीजा उन्हें आज देखने को मिला है.

शोएब स्कूल से सीध कोचिंग क्लास जाते थे और उनके दिन की शुरुआत आमतौर पर सुबह 6 बजे होती थी और शाम को 7 बजे तक चलती थी. शोएब का कहना है कि वो दिन में करीब 2 से 3 घंटे सेल्फ स्टडी को देते थे. हालांकि इससे वो पूरी तरह खुश नहीं थे. उन्होंने बताया, मैं 3 घंटे की सेल्फ स्टडी से खुश नहीं था और रविवार और बाकी छुट्टियों का समय भी सेल्फ स्टडी को देने लगा. उन दिनों में 13-14 घंटे पढ़ाई करता था.”

उन्होंने आगे कहा, 12वीं क्लास की बोर्ड परीक्षा के लिए मैंने जनवरी महीने में पढ़ाई शुरू की थी. शोएब ने CBSE 12वीं क्लास की बोर्ड परीक्षा में 96 फीसदी नंबर हासिल किए थे. भविष्य को देखते हुए शोएब काफी खुश हैं और अपनी सफलता के श्रेय वो अपनी मां को देते हैं जो हर मुश्किल समय में उनके साथ खड़ी रहीं. वो अब नई दिल्ली स्थित AIIMS में एडमिशन लेना चाहते हैं.

NEET 2020 Result: उड़ीसा के शोएब बने टॉपर, दिल्ली की आकांक्षा दूसरे, तेलंगाना के तुमुला तीसरे नंबर पर