अवैध नागरिकों के लिए बेंगलुरू के पास जल्द बनेगा नया डिटेंशन सेंटर

राज्य के गृहमंत्री बासवराज बोम्मई ने असम की तरह ही कर्नाटक में भी बांग्लादेशियों जैसे अवैध विदेशी नागरिकों का पता लगाने और उन्हें निर्वासित करने के लिए कर्नाटक में NRC का समर्थन किया है.

कर्नाटक के बेंगलुरू ग्रामीण जिले के नेलमंगला में अवैध विदेशी लोगों को रखने के लिए एक डिटेंशन सेंटर खोला जा रहा है. बेंगलुरू ग्रामीण के उप-पुलिस अधीक्षक मोहन कुमार ने बताया, “राज्य में संचालित एक हॉस्टल को अवैध विदेशी नागरिकों को रखने के लिए एक डिटेंशन सेंटर में परिवर्तित किया जा रहा है.” नेलमंगला राष्ट्रीय राजमार्ग-4 पर बेंगलुरू से लगभग 40 किलोमीटर उत्तर-पश्चिम में स्थित है.

मोहन कुमार ने बताया, “परिसर में खुली जगह के साथ 8-कमरे वाले भूतल भवन को एक डिटेंशन सेंटर की जरूरतों के हिसाब से बदला जाएगा. इस डिटेंशन सेंटर में सुरक्षा के फुलप्रूफ इंतजाम किए जाएंगे. इसमें क्लोज सर्किट टेलीविजन कैमरे (सीसीटीवी), फ्लडलाइट्स, कांटेदार बाड़ और एक निगरानी तंत्र विकसित किया जाएगा, ताकि यहां बंदियों की निगरानी की पूरी व्यवस्था की जा सके.” यह दक्षिणी राज्य में अपनी तरह का पहला केंद्र होगा. यह देवनहल्ली में बेंगलुरू अंतर्राष्ट्रीय हवाईअड्डे के पास स्थित है.

एक जिला स्तर के अधिकारी के मुताबिक, “यह कहना जल्दबाजी होगी कि यह कब से चालू होगा और अवैध विदेशी नागरिकों को आवास प्रदान करने के लिए कब तक तैयार होगा. सुरक्षा कारणों और जगह संबंधी बाधाओं के कारण सरकार ने नेलमंगला में डिटेंशन सेंटर स्थापित करने का फैसला किया है, जो बेंगलुरू के करीब है.” राज्य के गृहमंत्री बासवराज बोम्मई ने हालांकि गुरुवार को कहा था कि डिटेंशन सेंटर को जल्द ही चालू कर दिया जाएगा.”

असम की तरह कर्नाटक में भी उठ रही है NRC की मांग

बोम्मई ने असम की तरह ही कर्नाटक में भी बांग्लादेशियों जैसे अवैध विदेशी नागरिकों का पता लगाने और उन्हें निर्वासित करने के लिए कर्नाटक में राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (एनआरसी) लाने का समर्थन किया है. एक पुलिस अधिकारी ने कहा, “कर्नाटक में हालांकि इतने अवैध विदेशी नागरिक नहीं हैं, जितने उत्तर या पूर्व के कुछ राज्यों में हैं.” उन्होंने कहा कि इस तरह के लोगों का पता उनका वीजा समाप्त होने के बाद लगाया जाता है.

बेंगलुरू सेंट्रल से सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी के लोकसभा सदस्य ने शुक्रवार को एक राष्ट्रीय समाचार चैनल को बताया था कि राज्य में खासकर बेंगलुरू में कई अवैध बांग्लादेशी रहते हैं. उन्होंने कहा कि डिटेंशन सेंटर की मदद से पुलिस को उन्हें हिरासत में लेने व उनके जल्द निर्वासन में मदद मिलेगी.

ये भी पढ़ें: FATF की ग्रे लिस्ट से बाहर हुआ श्रीलंका, पाकिस्तान को ब्लैक लिस्ट में डाले जाने की चेतावनी