New Guidelines for International Arrivals: 14 दिन का आइसोलेशन, शपथ पत्र भी देना होगा

एडवायजरी में कहा गया है कि विमान या जहाज में सवार होने के समय यात्रियों की थर्मल स्क्रीनिंग (Thermal Screening) होगी और सिर्फ उन्ही यात्रियों को सफर करने की इजाजत होगी जिनमें कोरोना महामारी (Coronavirus Pandemic) का लक्षण नहीं होगा.

नागर विमानन मंत्री हरदीप सिंह पुरी के अंतरराष्ट्रीय यात्री विमानों के संचालन को बहाल करने से संबंधित बयान के एक दिन बाद रविवार को स्वास्थ्य मंत्रालय ने अंतरराष्ट्रीय विमानों के लिए एडवायजरी जारी की है. एडवायजरी में कहा गया है कि विमान में सवार होने से पहले सभी यात्रियों को एक शपथपत्र देना होगा कि वो 14 दिन के अनिवार्य आइसोलेशन (Isolation) में रहेंगे. इस दौरान वह सात दिन किसी आइसोलेशन सेंटर में रहेंगे, जिसके लिए उन्हें भुगतान करना होगा और उसके अगले सात दिन उन्हें अपने घर पर आइसोलेशन में रहना होगा.

देखिये फिक्र आपकी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 9 बजे

स्वास्थ्य मंत्रालयल की गाइडलाइन (Health Ministry Guideline) के मुताबिक सिर्फ उन लोगों को 14 दिन के होम आइसोलेशन की इजाजत होगी, जिनके पास मानवीय संकट, गर्भावस्था, परिवार में मौत, गंभीर बीमारी जैसी असाधारण और ठोस वजह होगी. वहीं 10 साल से कम उम्र के बच्चों के माता-पिता को भी 14 दिनों के होम आइसोलेशन पर रहने की इजाजत होगी. गाइडलाइन के मुताबिक यात्रियों को विमान में सवार होने से पहले ये शपथपत्र देना होगा.

एडवायजरी में कहा गया है कि विमान या जहाज में सवार होने के समय यात्रियों की थर्मल स्क्रीनिंग (Thermal Screening) होगी और सिर्फ उन्ही यात्रियों को सफर करने की इजाजत होगी जिनमें कोरोना महामारी (Coronavirus Pandemic) का लक्षण नहीं होगा. साथ ही यात्रियों को अपने मोबाइल पर आरोग्य सेतु ऐप (Aarogya Setu App) डाउनलोड करने की भी सलाह दी जाएगी. ये तमाम नियम उन लोगों पर भी लागू होंगे जो जमीनी बॉर्डर के जरिए भारत आना चाहते हैं.

टिकट के साथ मिलेगी Do’s और Don’t की लिस्ट

स्वास्थ्य मंत्रालय के दिशा निर्देशों में बताया गया है कि विमान या जहाज में यात्रा कर रहे लोगों को घोषणा पत्र की एक कॉपी हवाई अड्डे, बंदरगाह या बॉर्डर पर मौजूद चौकी, स्वास्थ्य या इमिग्रेशन अधिकारी को भी देनी होगी. यात्रियों को ये फॉर्म आरोग्य सेतु ऐप पर भी उपलब्ध कराया जाएगा. संबंधित एजेंसियां यात्रियों को टिकट के साथ क्या करें और क्या न करें (Do’s and Don’t) की सूची भी उपलब्ध कराएंगी.

एडवायजरी में हवाई अड्डों के साथ-साथ विमानों में साफ-सफाई और संक्रमण मुक्त करने का छिड़काव करने से जैसे उचित एहतियाती कदम उठाए जाने की भी बात कही गई है. इसमें कहा गया है कि विमान में सवार होते वक्त और हवाई अड्डों पर सोशल डिस्टेंसिंग (Social Distancing) बनाए रखने के सभी संभव कदम सुनिश्चित किए जाएंगे. दिशा निर्देशों में कहा गया है कि हवाई अड्डों, बंदरगाहों और विमानों या जहाजों में एहतियाती कदमों समेत COVID-19 के बारे में जरूरी घोषणाएं की जाएंगी.

लक्षण पाए जाने पर तुरंत किया जाएगा आइसोलेट

साथ ही विमान या जहाज में चढ़ते वक्त मास्क, साफ-सफाई, हाथ धोने जैसे एहतियाती कदमों पर नजर रखी जाएगी. आगमन पर हवाई अड्डे, बंदरगाहों, बॉर्डर की चौकियों पर मौजूद स्वास्थ्य अधिकारी सभी यात्रियों की थर्मल स्क्रीनिंग करेंगे. जांच के दौरान जिस यात्री में भी लक्षण पाए जाएंगे उसे तुरंत आइसोलेट किया जाएगा और मेडिकल सेंटर ले जाया जाएगा. यात्री को उसी सेंटर पर ले जाया जाएगा जिसीक व्यवस्था राज्य या केंद्र शासित प्रदेश की संस्था करेंगी. यहां पर यात्री को कम से कम सात दिनों तक रखा जाएगा.

ICMR के नियमों के मुताबिक इनकी जांच की जाएगी. अगर वे संक्रमित पाए गए तो उनकी मेडिकल जांच की जाएगी. अगर उनमें हल्के लक्षण पाए गए तो उन्हें घर पर आइसोलेट या कोविड केयर सेंटर (सरकार और निजी) में आइसोलेट किया जाएगा. स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि जिन यात्रियों में मध्यम या गंभीर लक्षण पाए जाएंगे उन्हें कोविड स्वास्थ्य केंद्रों में भर्ती कराया जाएगा. अगर वे संक्रमित नहीं पाए गए तो उन्हें खुद को घर पर सात दिनों के लिए आइसोलेशन पर रहने के लिए कहा जाएगा.

Related Posts