भारतीय युवकों को ISIS में शामिल करवाने वाले 15 दोषियों को NIA ने सुनाई सजा

अधिकारी ने बताया, "जांच के दौरान यह खुलासा हुआ कि आरोपी व्यक्तियों ने जुनूद-उल-खलीफा-फील-हिंद नाम का संगठन बनाया था, जिसका काम ISIS के लिए मुस्लिम युवकों को भर्ती करना और भारत में आतंकवाद फैलाना था.

राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) ने शनिवार को कहा कि दिल्ली की एक अदालत ने ISIS साजिश मामले में पहले दोषी ठहराए जा चुके 15 लोगों को शुक्रवार को 5 से 10 साल की कठोर कारावास की सजा सुनाई है. मामला सीरिया स्थित IS मीडिया प्रमुख युसूफ-अल-हिंदी की ओर से भारतीय मुस्लिम युवाओं के संगठन में भर्ती से जुड़ा हुआ है. दरअसल यूसुफ मुस्लिम युवाओं को आतंकी संगठन के लिए चुनना चाहता था और उनसे भारत में आतंकवादी गतिविधि करवाना चाहता था.

NIA के एक प्रवक्ता ने शनिवार को बताया, “दिल्ली की एक कोर्ट ने शुक्रवार को ISIS साजिश मामले में 15 आरोपियों के खिलाफ सजा की घोषणा की है.” NIA की विशेष कोर्ट ने नफीस खान को 1,03,000 रुपये के जुर्माने के साथ 10 वर्ष का कठोर कारावास, मुदब्बीर मुस्ताक शेख को 65,000 जुर्माने के साथ सात वर्ष का कठोर कारावास, अबु अनस को 48,000 जुर्माने के साथ सात साल, मुफ्ती अब्दुस सामी को 50,000 रुपये जुर्माने के साथ सात साल, अजहर खान को 58,000 रुपये के जुर्माने के साथ छह वर्ष की सजा और अमजद खान को 78,000 रुपये के जुर्माने के साथ छह वर्ष की कठोर सजा सुनाई है.

बलविंदर सिंह की पत्नी का आरोप- हमलों की 42 FIR दर्ज होने के बाद भी हटाई गई हमारी सुरक्षा

वहीं NIA कोर्ट ने मोहम्मद शरीफ मोईनुदीन, आसिफ अली, मोहम्मद हुसैन, सैयद मुजाहिद, नजमुल हुडा, मोहम्मद अब्दुल्ला, मोहम्मद अलीम, मोहम्मद अफजल, सोहेल अहमद को पांच वर्ष की कठोर कारावास की सजा सुनाई है और प्रत्येक पर 38,000 रुपये का जुर्माना लगाया है. NIA ने 9 दिसंबर 2015 को कई धाराओं में मामला दर्ज किया था, जिसके तहत ISIS की योजना भारत में अलग-अलग सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के जरिए मुस्लिम युवकों की भर्ती कर यहां अपना बेस स्थापित करना और आतंकवाद फैलाना था.

जांच के दौरान, कई शहरों में छापे मारे गए और 19 आरोपियों को पकड़ा गया था. अधिकारी ने कहा, “जांच के दौरान यह खुलासा हुआ कि आरोपी व्यक्तियों ने जुनूद-उल-खलीफा-फील-हिंद नाम का संगठन बनाया था, जिसका काम ISIS के लिए मुस्लिम युवकों को भर्ती करना और भारत में आतंकवाद फैलाना था. IS यह काम सीरिया में मौजूद युसूफ-अल हिंदी ऊर्फ शफी अरमर ऊर्फ अंजान भाई के जरिए करवाना चाहता था जो कथित रूप से ISIS का मीडिया चीफ था.”

गुजरात: ब्रेक अप के बाद युवक ने प्रेमिका से मांगे कॉफी और गिफ्ट के 50 हजार रुपये

Related Posts