मार्केट की हालत सुधारेगी EAC, जानें कौन हैं पीएम मोदी की टीम के ये दो नए चेहरे

पीएम की EAC उन्‍हें मैक्रोइकॉनमिक मुद्दों और इससे जुड़े मामलों पर सलाह देती है. अभी तक इसके सुझाव सार्वजनिक नहीं किए गए हैं.

प्रधानमंत्री की आर्थिक सलाहकार समित‍ि (EAC) में दो नए चेहरे शामिल किए गए हैं. ये हैं- कोटक महिंद्रा म्‍युचुअल फंड के मैनेजिंग डायरेक्‍टर निलेश शाह और क्रेडिट सुइसे के MD, इंडिया स्‍ट्रैटेजिस्‍ट और एशिया पैसिफिक के इक्विटी स्‍ट्रैटजी के को-हेड नीलकंठ मिश्रा. दोनों को आर्थिक मोर्चे पर आ रहीं नकरात्‍मक ख़बरों के बीच दो साल के लिए EAC का पार्ट-टाइम सदस्‍य बनाया गया है.

निलेश शाह की गिनती देश के स्‍टार फंड मैनेजर्स में होती हैं. वह ICICI प्रूडेंशल म्‍युचुअल फंड संभाल चुके हैं और Axis Capital के CEO रहे हैं. वह एसोसिएशन ऑफ म्यूचुअल फंड्स इन इंडिया (AMFI) के अध्‍यक्ष भी हैं.

नीलकंठ मिश्रा को एशिया मनी पोल की ओर से भारत के बेस्‍ट इकॉनमिक एनालाइजर का खिताब मिल चुका है. वह 15वें वित्त आयोग तथा भारत सरकार की नियुक्त समितियों के सलाहकार परिषद सदस्य भी रहे हैं.

पिछले महीने EAC में चली उठापटक

करीब तीन सप्‍ताह पहले EAC से रथिन रॉय और शमिका रवि को हटा दिया गया था. उनकी जगह जेपी मॉर्गन के चीफ इंडिया इकॉनमिस्‍ट सज्‍जाद चिनॉय को शामिल किया गया था. इसके अलावा इंस्‍टीट्यूट ऑफ फायनेंशियल मैनेजमेंट एंड रिसर्च के डीन वी अनंत नागेश्‍वरम को EAC का तीसरा सदस्‍य बनाया गया.

बैंक क्रेडिट ग्रोथ, पैसेंजर व्‍हीकल्‍स, टू व्‍हीलर्स की सेल्‍स में कमी, रिटेल कंजप्‍शन जैसे इंडिकेटर्स बाजार में मंदी की ओर इशारा कर रहे हैं. GDP के आंकड़े भी यही कहानी कहती हैं. कई एक्‍सपर्ट्स ने EAC में नई नियुक्तियों का स्‍वागत किया है.

पीएम की EAC उन्‍हें मैक्रोइकॉनमिक मुद्दों और इससे जुड़े मामलों पर सलाह देती है. अभी तक इसके सुझाव सार्वजनिक नहीं किए गए हैं.

ये भी पढ़ें

अब iPhone होंगे ‘मेड-इन-इंडिया’, क्या सस्ती होगी कीमत?

पिज्जा खाने के शौकीन लोगों के लिए बुरी खबर, डोमिनोज समेट रहा है कारोबार