‘नीरव मोदी ने गवाह को दी जान से मारने की धमकी’

नीरव मोदी को स्कॉटलैंड यार्ड ने मध्य लंदन की एक बैंक शाखा से गिरफ्तार किया था. वह वहां नया खाता खुलवाने गया था. नीरव मोदी ने जमानत याचिका दायर की थी. शुक्रवार को लंदन कोर्ट ने उनकी जमानत याचिका रद्द कर दी.

नई दिल्ली: पीएनबी घोटाले के मुख्य आरोपी नीरव मोदी की जमानत अर्जी खारिज हो गई है. अब नीरव मोदी को 26 अप्रैल तक जेल में ही रहना पड़ेगा. नीरव मोदी की जमानत को लेकर लंदन की वेस्टमिंस्टर कोर्ट में सुनवाई चल रही थी. इस दौरान बेहद चौंकाने वाला खुलासा भी हुआ है.

भारतीय प्राधिकरण की तरफ से पेश हुए क्राउन प्रॉसेक्यूशन सर्विस के टॉबी कैडमैन ने लंदन की कोर्ट को बताया कि नीरव मोदी ने एक गवाह ‘आशीष लाड’ को बुलाकर, उसे जान से मारने की धमकी दी थी. ईडी के वकील ने कोर्ट में भगोड़े नीरव मोदी को जमानत न दिए जाने की मांग की है.

कैडमैन ने कोर्ट में कहा कि नीरव मोदी भारतीय एजेंसी के साथ सहयोग नहीं कर रहे हैं. कैडमैन ने अदालत से नीरव की जमानत अर्जी खारिज करने की मांग करते हुए कहा था कि नीरव मोदी को कोर्ट से जमानत न दी जाए, इसके पीछे पर्याप्त कारण हैं. इनमे पहला यह है कि वह जमानत मिलने पर देश छोड़ने की कोशिश करेगा.

कैडमैन ने कोर्ट को बताया कि यदि नीरव मोदी को जमानत मिली और ये जेल से बाहर आया तो सबूतों को नष्ट करने और गवाहों को प्रभावित करने का प्रयास भी कर सकता है. इससे पहले जिला न्यायाधीश मैरी मैलोन की अदालत में पहली सुनवाई में नीरव मोदी की जमानत याचिका खारिज की जा चुकी है.