बैंक के फर्जीवाड़े से मिली थी भगोड़े नीरव मोदी को मदद, ऐसे निकाले थे 25 हजार करोड़

हीरा कारोबारी नीरव मोदी के देश के बैंकों का अरबों रुपये लेकर भागने की घटना की जांच सीबीआई को सौंपी गई थी. इसके बाद पंजाब नेशनल बैंक ने अपनी ओर से मामले का फॉरेंसिक ऑडिट भी करवाया था. इसकी रिपोर्ट ने बैंक के भी होश उड़ा दिए हैं.

भगोड़े नीरव मोदी को बैंक ने फर्जीवाड़े से 25 हजार करोड़ रुपये के लेटर ऑफ अंडरटेंकिंग ( एलओयू ) जारी किए थे. बैंक की ओर से करवाए गए फॉरेंसिक ऑडिट रिपोर्ट में यह बात सामने आई है. पंजाब नेशनल बैंक के लिए यह जांच बेल्जियम के ऑडिटर बीडीओ की ओर से की गई थी. इसके बाद बैंकिंग सिस्टम की तह तक में पसरे भ्रष्टाचार के तथ्य समने आ गए हैं.

इंडियन एक्सप्रेस में छपी खबर के मुताबिक दो साल पहले हीरा कारोबारी नीरव मोदी के देश के बैंकों का अरबों रुपये लेकर भागने की घटना की जांच सीबीआई को सौंपी गई थी. इसके बाद पंजाब नेशनल बैंक ने अपनी ओर से मामले का फॉरेंसिक ऑडिट भी करवाया था. इसकी रिपोर्ट ने बैंक के भी होश उड़ा दिए हैं.

जून 2018 तक की सूचनाओं की तहकीकात करते हुए ऑडिटर ने पाया कि पंजाब नेशनल बैंक की ओर से नीरव मोदी को 28 हजार करोड़ रुपये के कुल 1561 एलओयू जारी किए थे. इनमें से 25 हजार करोड़ रुपये के 1381 एलओयू फर्जी तरीके से जारी किए थे. जिन 23 एक्सपोर्टर के नाम से एलओयू जारी किए थे उनमें 21 पर नीरव मोदी का ही नियंत्रण था. वहीं बैंक को भुगतान करने के लिए 6000 करोड़ रुपये मूल्य के 193 एलओयू का गलत इस्तेमाल किया गया था.

ऑडिटर ने बैंक की ओर से नीरव मोदी और उसकी सात कंपनी और सहायक कंपनियों की जांच की थी. इसके पांच अंतरिम और एक फाइनल रिपोर्ट सौंपी है. 329 पेज के इस रिपोर्ट को एक व्हिसिल ब्लोअर ने इंटरनेशनल कंसोर्टियम ऑफ इंवेस्टिगेटिव जर्नलिस्ट्स ( आईसीआईजे ) को सौंपा है. बीडीओ की ऑडिट रिपोर्ट में सामने आया है कि नीरव मोदी और उसके परिवार की 20 से ज्यादा संपत्तियों का किसी भी वित्तीय लेनदेन में सिक्योरिटी के तौर पर इस्तेमाल नहीं किया गया है.

नीरव मोदी के विदेशों में स्थित 13 अचल संपत्तियों का खुलासा भी रिपोर्ट में किया गया है. इसके अलावा नीरव की चल संपत्तियों में लग्जरी कार और बोट के साथ ही लगभग 20 करोड़ कीमत की कई पेंटिग्स का भी जिक्र किया गया है.

ये भी पढ़ें –

माल्या-नीरव मोदी जैसे 50 से ज्यादा भगोड़ों ने लगाया 17,900 करोड़ रुपये का चूना

अरबों रुपये के घोटाले में महेंद्र सिंह धोनी भी फंसेंगे? बनाए जा सकते हैं आरोपी