निर्भया केस : तिहाड़ में टोटा तो यूपी से मांगा गया जल्‍लाद, सिर्फ दो हैं जिनमें से एक बीमार

यूपी में केवल दो सक्रिय जल्‍लाद हैं- एक मेरठ में है और दूसरा लखनऊ में. लखनऊ जेल के जल्‍लाद की तबीयत अभी ठीक नहीं है.

निर्भया केस के दोषियों को फांसी देने के लिए तिहाड़ जेल में जल्‍लाद नहीं है. जेल प्रशासन ने उत्‍तर प्रदेश की जेलों से जल्‍लाद मंगाने को लिखा है. यूपी जेल विभाग के अनुसार, राज्‍य में दो जल्‍लाद हैं जिनमें से किसी एक को यह ड्यूटी दी जा सकती है.

डीजी (जेल) आनंद कुमार ने द इंडियन एक्‍सप्रेस से कहा, “तिहाड़ के अधिकारियों की एक चिट्ठी मिली है कि उनके यहां जल्‍लाद नहीं है, उन्‍होंने यूपी से जल्‍लाद मांगा है. यूपी के केवल दो सक्रिय जल्‍लाद हैं- एक मेरठ में है और दूसरा लखनऊ में. जरूरत के हिसाब से उनकी सेवाएं मुहैया कराई जाएंगी.

जल्‍लादों को फिक्‍स्‍ड सैलरी मिलती है. इससे फर्क नहीं पड़ता कि उन्‍होंने कितनों को फांसी पर लटकाया. लखनऊ जेल के जल्‍लाद की तबीयत अभी ठीक नहीं है. अगर उसे तिहाड़ भेजा जाता है तो पहले उसका मेडिकल किया जाएगा.

गृह मंत्रालय ने राष्‍ट्रपति रामनाथ कोविंद से एक दोषी की दया याचिका खारिज करने की सिफारिश की है. पिछले हफ्ते उसने अपनी याचिका वापस लेते हुए कहा था कि जेल अधिकारियों ने बिना उसकी मर्जी के याचिका भेज दी थी.

ये भी पढ़ें

निर्भया कांड के दोषी की अदालत में दलील, दिल्ली गैस चैंबर फिर मुझे सजा-ए-मौत क्यों?

निर्भया के मुजरिमों को फांसी पर लटकाने के लिए तैयार बैठा हूं, देश के सबसे बड़े जल्‍लाद ने कहा